गणेश चतुर्थी 2018: अपनी राशि के अनुसार करें पूजा, मनोकामना होगी पूर्ण

गणेश चतुर्थी 2018 ,गणेश चतुर्थी
गणेश चतुर्थी 2018: अपनी राशि के अनुसार करें पूजा, मनोकामना होगी पूर्ण

Ganesh Chaturthi 2018

लखनऊ। कोई भी शुभ कार्य करने से पहले हम गणपती जी की पूजा करते हैं सभी देवी-देवताओं में भगवान गणेश का सबसे पहले पूजन होता है। गणेश चतुर्थी को सिद्धिविनायक चतुर्थी व विनायक चतुर्थी भी कहा जाता है। हिन्दू धर्म में गणेश चतुर्थी का त्योहार बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। इस बार गणेश चतुर्थी पर 122 साल बाद ग्रहों और नक्षत्रों का विशेष संयोग बन रहा है। ऐसे में अगर आप अपनी राशि के अनुसार पूजा करते हैं तो आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होंगी।

अपनी राशि के अनुसार करें पूजा

मेष राशि मेष राशि के व्यक्ति वक्रतुंड गणेशजी की पूजा करें और लगातार दस दिनों तक तक मोतीचूर के लड्डू का भोग लगाएं और 108 बार ओम गं गणपतये नम: के मंत्र का जप करें।

वृषभ राशि वृषभ राशि के व्यक्ति विघ्न विनाशक गणेशजी की पूजा करें और लगा तार दस दिनों तक नारियल से बने लड्डू का भोग लगाएं और 108 बार ओम ह्रीं ग्रीं ह्रीं के मंत्र का जप करें।

मिथुन राशि मिथुन राशि के व्यक्ति विनायक गणेशजी की पूजा करें और लगातार दसदिनो तक मूंग से बने लड्डू का भोग लगाएं और 108 बार ओम श्रीं श्रियैः नमः के मंत्र का जप करें और श्री सूक्त का भी पाठ करें।

कर्क राशि कर्क राशि के व्यक्ति लक्ष्मी गणेश की पूजा करें और लगातार दस दिनों तक मोदक से बने लड्डू का भोग लगाएं और 108 बार ओम एकदंताय हुं के मंत्र का जप करें और चावल का दान करें।

सिंह राशि सिंह राशि के व्यक्ति शक्तिविनायक गणेश की पूजा करें और लगातार दस दिनों तक मिश्री से बने लड्डू का भोग लगाएं और 108 बार ओम एकद एकदंताय नम: के मंत्र का जप करें।

कन्या राशि कन्या राशि के व्यक्ति हरिद्रा गणेश की पूजा करें और लगातार दस दिनों तक आप दूध और फल की बनी खीर का भोग लगाएं और 108 बार ओम गं गणपतयै नमः के मंत्र का जप करें।

तुला राशि तुला राशि के व्यक्ति सौभाग्य गणेश की पूजा करें और लगातार दस दिनों तक गु़ड़ से बने मोदक के लड्डू का भोग लगाएं। 108 बार ओम बार ओम श्रीं गं सौभाग्य गणपतेय वरवरदं सर्वजनं में वशमानाय स्वाहा के मंत्र का जप करें।

वृश्चिक राशि वृश्चिक राशि के व्यक्ति लंबोदर गणेश की पूजा करें और लगातार दस दिनों तक किशमिश और तिल से बने लड्डू का भोग लगाएं और 108 बार ओम लम्बोदराय नमः के मंत्र का जप करें।

धनु राशि धनु राशि के व्यक्ति विघ्न विनाशक की पूजा करें और लगातार दस दिनों तक मूंग की दाल के लड्डू का भोग लगाएं और 108 बार ओम गं गणपतयै नमः के मंत्र का जप करें।

मकर राशि मकर राशि के व्यक्ति उमापुत्राय गणेश की पूजा करें और लगातार दस दिनों तक बेसन के लड्डू का भोग लगाएं और 108 बार ओम विकटाननाय नम: के मंत्र का जप करे।

कुंभ राशि कुंभ राशि के व्यक्ति भगवान गणेश के सर्वेश्वराय रूप की पूजा करें और लगातार दस दिनों तक तिल के लड्डू का भोग लगाएं और 108 बार ओम सर्वेश्वराय नमः के मंत्र का जप करें।

मीन राशि मीन राशि के व्यक्ति हरिद्रा गणेश की पूजा करें और लगातार दस दिनों तक मोदक के लड्डू का भोग लगाएं और 108 बार ओम गं गणपतये नम: के मंत्र का जप करें।

लखनऊ। कोई भी शुभ कार्य करने से पहले हम गणपती जी की पूजा करते हैं सभी देवी-देवताओं में भगवान गणेश का सबसे पहले पूजन होता है। गणेश चतुर्थी को सिद्धिविनायक चतुर्थी व विनायक चतुर्थी भी कहा जाता है। हिन्दू धर्म में गणेश चतुर्थी का त्योहार बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। इस बार गणेश चतुर्थी पर 122 साल बाद ग्रहों और नक्षत्रों का विशेष संयोग बन रहा है। ऐसे में अगर आप अपनी राशि के अनुसार पूजा करते हैं तो…