Ganesh Chaturthi 2019: इस दिन है गणेश चतुर्थी, इन शुभ मुहूर्तों पर करें प्रतिमा की स्थापना

Ganesh Chaturthi 2019: इस दिन है गणेश चतुर्थी, इन शुभ मुहूर्तों पर करें प्रतिमा की स्थापना
Ganesh Chaturthi 2019: इस दिन है गणेश चतुर्थी, इन शुभ मुहूर्तों पर करें प्रतिमा की स्थापना

लखनऊ। भाद्रमास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को पूरे देश में गणेश चतुर्थी के रूप में मनाया जाता है। अंग्रेजी कैलेंडर के मुताबिक इस साल ये 2 सितंबर यानी सोमवार को पड़ रहा है। विनायक चतुर्थी अथवा गणेश चौथ के नामों से भी जाने जानी वाली गणेश चतुर्थी को लोग अपने घरों में भगवान गणेश की स्थापना करते हैं। आइये जानते हैं किन शुभ मुहूर्तों में करनी चाहिए मूर्ति स्थापना…

Ganesh Chaturthi 2019 Shubh Muhurt And Date :

वर्ष 2019 में 2 सितंबर से 12 सितंबर तक चलने वाले इस पर्व में सभी भगवान गणपति की कृपा पाने का इच्छुक रहता है। गणेश चतुर्थी के पावन पर्व पर सोमवार यानी 2 सितंबर को सुबह स्नान कर द्विस्वभाव लग्न कन्या में प्रात: 7:10 बजे से सुबह 9:26 तक, चर लग्न तुला मे 9:26 से 11:44 तक या फिर धनु द्विस्वभाव लग्न दोपहर 2:03 से 4:07 बजे तक अथवा चर लगन मकर में शाम 4:08 बजे से 5:50 बजे तक के बीच में इको फ्रेंडली गणेश जी की स्थापना घर, पार्क, पंडाल में करेंगे तो अतिशुभ फल मिलेगी।

मान्यता यह भी है कि गणेश जी का जन्म भाद्रपद माह की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी के मध्यांह् के समय हुआ था। इस बार अतिशुभ मध्यांह् काल मुहूर्त दिन में 11:05 से दोपहर 1:38 मिनट रहेगा।

इस मंत्र का करें जाप

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ।निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा।।

लखनऊ। भाद्रमास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को पूरे देश में गणेश चतुर्थी के रूप में मनाया जाता है। अंग्रेजी कैलेंडर के मुताबिक इस साल ये 2 सितंबर यानी सोमवार को पड़ रहा है। विनायक चतुर्थी अथवा गणेश चौथ के नामों से भी जाने जानी वाली गणेश चतुर्थी को लोग अपने घरों में भगवान गणेश की स्थापना करते हैं। आइये जानते हैं किन शुभ मुहूर्तों में करनी चाहिए मूर्ति स्थापना... वर्ष 2019 में 2 सितंबर से 12 सितंबर तक चलने वाले इस पर्व में सभी भगवान गणपति की कृपा पाने का इच्छुक रहता है। गणेश चतुर्थी के पावन पर्व पर सोमवार यानी 2 सितंबर को सुबह स्नान कर द्विस्वभाव लग्न कन्या में प्रात: 7:10 बजे से सुबह 9:26 तक, चर लग्न तुला मे 9:26 से 11:44 तक या फिर धनु द्विस्वभाव लग्न दोपहर 2:03 से 4:07 बजे तक अथवा चर लगन मकर में शाम 4:08 बजे से 5:50 बजे तक के बीच में इको फ्रेंडली गणेश जी की स्थापना घर, पार्क, पंडाल में करेंगे तो अतिशुभ फल मिलेगी। मान्यता यह भी है कि गणेश जी का जन्म भाद्रपद माह की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी के मध्यांह् के समय हुआ था। इस बार अतिशुभ मध्यांह् काल मुहूर्त दिन में 11:05 से दोपहर 1:38 मिनट रहेगा। इस मंत्र का करें जाप वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ।निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा।।