1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Ganesh Chaturthi 2021 : योगी सरकार ने यूपी में गणेश चतुर्थी के सार्वजनिक आयोजन को किया बैन

Ganesh Chaturthi 2021 : योगी सरकार ने यूपी में गणेश चतुर्थी के सार्वजनिक आयोजन को किया बैन

Ganesh Chaturthi 2021: उत्तर प्रदेश की योगी सरकार (Yogi Government)  वैश्विक महामारी कोविड-19 (COVID-19) पर लगभग नियंत्रण पा चुकी है। इसके बावजूद उत्तर प्रदेश में गणेश चतुर्थी (Ganesh Chaturthi) के सार्वजनिक आयोजनों पर इस साल भी पाबंदी जारी रहेगी।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की टीम-09 ने कहा कि देश के अन्य राज्यों के सापेक्ष यूपी में स्थिति बहुत बेहतर है। गुरुवार को प्रदेश के 33 जिलों में कोविड का एक भी एक्टिव केस नहीं है। बुधवार को हुई कोविड टेस्टिंग में 66 ज़िलों में संक्रमण का एक भी नया केस नहीं मिला। वर्तमान में 199 संक्रमितों का उपचार हो रहा है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ। Ganesh Chaturthi 2021: उत्तर प्रदेश की योगी सरकार (Yogi Government)  वैश्विक महामारी कोविड-19 (COVID-19) पर लगभग नियंत्रण पा चुकी है। इसके बावजूद उत्तर प्रदेश में गणेश चतुर्थी (Ganesh Chaturthi) के सार्वजनिक आयोजनों पर इस साल भी पाबंदी जारी रहेगी।

पढ़ें :- अपर निदेशक सूचना पद पर अंशुमानराम त्रिपाठी की तैनाती, लंबे अरसे से खाली पड़ी थी कुर्सी
Jai Ho India App Panchang

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की टीम-09 ने कहा कि देश के अन्य राज्यों के सापेक्ष यूपी में स्थिति बहुत बेहतर है। गुरुवार को प्रदेश के 33 जिलों में कोविड का एक भी एक्टिव केस नहीं है। बुधवार को हुई कोविड टेस्टिंग में 66 ज़िलों में संक्रमण का एक भी नया केस नहीं मिला। वर्तमान में 199 संक्रमितों का उपचार हो रहा है।

उन्होंने कहा कि गणेश चतुर्थी (Ganesh Chaturthi) पर्व शांतिपूर्ण ढंग से सौहार्दपूर्ण माहौल में संपन्न हो। इसके लिये सभी जरूरी इंतज़ाम कर लिए जाएं। लोगों की आस्था को यथोचित सम्मान किया जाना चाहिए। यह सुनिश्चित किया जाए कि सार्वजनिक स्थल पर कोई भी प्रतिमा स्थापित न हो। देवालयों और अपने घरों में लोग प्रतिमा स्थापित करें, पूजन करें। कहीं भी अनावश्यक भीड़ न हो। यह सतर्कता और सावधानी बरतने का समय है। थोड़ी सी लापरवाही कोविड-19 (COVID-19) संक्रमण को बढ़ाने का कारक बन सकती है।

श्री योगी ने कहा कि डेंगू और अन्य संक्रामक बीमारियों के लिये जारी सर्विलांस कार्यक्रम को प्रभावी बनाया जाए। बुखार व संक्रमण के अन्य लक्षणों के संदिग्ध मरीजों की पहचान की जाए। विशेषज्ञ टीम के दिशा-निर्देशों के अनुरूप उपचार किया जाये। बेड, दवाइयों की पर्याप्त उपलब्धता बनाए रखी जाए। सरकारी अस्पतालों में सभी मरीजों के निःशुल्क उपचार की व्यवस्था है। फिरोजाबाद, आगरा, कानपुर, मथुरा समेत अन्य प्रभावित जिलों की स्थिति पर पैनी नजर रखी जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में अब तक 07 करोड़ 42 लाख 65 हजार 99 कोविड सैम्पल की जांच की जा चुकी है। पिछले 24 घंटे में हुई 02 लाख 26 हजार 111 सैम्पल टेस्टिंग में 11 नए मरीजों की पुष्टि हुई। मात्र नौ जिलों में ही नए मरीज मिले। इसी अवधि में 24 मरीज स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुए। प्रदेश में अब तक 16 लाख 86 हजार 441 प्रदेशवासी कोविड-19 (COVID-19)  संक्रमण से मुक्त होकर स्वस्थ हो चुके हैं।

पढ़ें :- Big News : खुली जगहों पर शादी समारोह की योगी सरकार ने दी इजाजत, जानें क्या है नई गाइडलाइन

अलीगढ़, अमरोहा, अयोध्या, बागपत, बलिया, बलरामपुर, बांदा, बस्ती, बहराइच, भदोही, बिजनौर, चंदौली, चित्रकूट, देवरिया, एटा, फतेहपुर, गाजीपुर, गोंडा, हमीरपुर, हापुड़, हरदोई, हाथरस, कासगंज, कौशाम्बी, ललितपुर, महोबा, मुरादाबाद, मुजफ्फरनगर, पीलीभीत, रामपुर, शामली, सिद्धार्थ नगर और सोनभद्र में कोविड-19 (COVID-19) का एक भी मरीज शेष नहीं है। यह जिले आज कोविड-19 (COVID-19) संक्रमण से मुक्त हैं। औसतन हर दिन ढाई लाख से अधिक टेस्ट हो रहें हैं, जबकि पॉजिटिविटी दर (positivity rate) 0.01 से भी कम हो गया है और रिकवरी दर 98.7 फीसदी है।

उन्होंने बताया कि कोविड-19 (COVID-19) से बचाव के लिए प्रदेश में टीकाकरण की प्रक्रिया तेजी से चल रही है। अब तक 45 फीसदी से अधिक लोगों ने टीके की पहली खुराक प्राप्त कर ली है।। पहला डोज लेने वालों की संख्या 07 करोड़ के पार होने जा रही है। प्रदेश में कुल कोविड वैक्सीनेशन (covid vaccination) 08 करोड़ 34 लाख 92 हजार से अधिक हो गया है। यह किसी एक राज्य में हुआ सर्वाधिक टीकाकरण है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...