गणेश चतुर्थी: 58 साल बाद बना खास संयोग, जान‌िए कैसा रहेगा सभी राश‌ियों पर शन‌िदेव का असर

इस साल गणेश चतुर्थी 25 अगस्त से शुरू होकर 5 सितम्बर तक रहेगी। इस त्यौहार को पूरे देश में बहुत धूम धाम से मनाया जाता है, लेकिन महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा धूमधाम से मनाया जाता है। सबसे खास बात आपको बता दें कि इस साल गणेश चतुर्थी पर बप्पा 10 नहीं बल्कि 11 दिन तक हर घर में विराजेंगे।

ऐसा इसलिए क्योंकि 58 वर्षों बाद ऐसा असाधारण संयोग बनेगा। इस साल 2017 में शनि की मार्गीय में गणेश जी विराजेंगे। ऐसा शुभ संयोग इससे पहले 1959 में बना था। जो इस त्यौहार को और भी ज्यादा खास बनाएगा। शनि का खास प्रभाव भी 12 राशियों पर पड़ेगा। इस दिन से शनि सीधी चाल चलना शुरू करेंगे। जिससे उनका प्रकोप कम होगा। शनि वृश्चिक राशि में 141 दिन तक वक्रीय होने के बाद 25 अगस्त से मार्गीय होंगे।

{ यह भी पढ़ें:- गणेश चतुर्थी 2017: जानिए- क्यों मनाई जाती है गणेश चतुर्थी और क्या है इसका महत्व }

शनिदेव 25 अगस्त को संध्या समय 5 बजकर 19 मिनट पर वृश्चिक राशि में मार्गी होंगे। इसी समय गणेश उत्सव का भी शुरू होगा। जो करीब सभी राशियों के लिए अनुकूल परिस्थितियां पैदा करेगा। इस दिन शनि पूजन करने वाला उनका प्रिय बन जाएगा। अपनी राशि में शनि के शुभ प्रभाव चाहते हैं तो गणेश स्रोत और शनि स्रोत का पाठ अवश्य करें।

{ यह भी पढ़ें:- जानिए गणेश चतुर्थी को चंद्र दर्शन निषेध क्यों...? }

Loading...