गणेश चतुर्थी 2017: जानिए- क्यों मनाई जाती है गणेश चतुर्थी और क्या है इसका महत्व

Happy-Ganesh-Chaturthi-2016

गणेश चतुर्थी का त्योहार भारत के अलग-अलग हिस्सों में अलग-अलग तरीके से मनाया जाता है। हिंदू धर्म के मुताबिक इस दिन भगवान गणेश का जन्म हुआ था। इसी के उपलक्ष्य में इस त्योहार को बड़ी धूमधाम के साथ मनाया जाता है। यह त्योहार भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को पड़ता है।

महाराष्ट्र और उसके आस-पास के क्षेत्रों में गणेश चतुर्थी के बाद 10 दिन तक गणेशोत्सव मनाया जाता है। इस दौरान श्रद्धालु अपने घर में भगवान श्री गणेश की मूर्ति स्थापित करते हैं और पूरे दस दिन गणेश भगवान की पूजा करते हैं। गणेशोत्सव के आखिरी दिन यानि अनंत चतुर्दशी के दिन गणपति जी का विसर्जन किया जाता है।

{ यह भी पढ़ें:- Sakat Chauth 2018: जाने सकट चौथ का मुहूर्त और पूजन विधि }

इस बार गणेश चतुर्थी 25 अगस्त को पड़ रही है। यह चतुर्थी साल भर की चतुर्थियों में सबसे अहम होती है। इसी दिन भगवान गणेश की मूर्ति घर में स्थापित की जाती है। इसके बाद दस दिन तक घर में भगवान गणेश की पूजा की जाती है। बताया गया है कि भगवान गणेश की पूजा करने से घर में सुख, समृद्धि और संपन्नता आती है। कई लोग इस दिन व्रत भी रखते हैं, कहा जाता है कि व्रत रखने से भगवान गणेश खुश होते हैं और अपने भक्तों की मनोकामनाएं पूरी करते हैं।

बताया जा रहा है कि इस बार गणेशोत्सव 10 दिन नहीं बल्कि 11 दिन चलेगा। ऐसा इसलिए हुआ है क्योंकि इस बार दो दशमी तिथि पड़ रही हैं। इस बार 31 अगस्त और एक सितंबर दोनों ही दिन दशमी तिथि रहेगी।

{ यह भी पढ़ें:- गणेश चतुर्थी: 58 साल बाद बना खास संयोग, जान‌िए कैसा रहेगा सभी राश‌ियों पर शन‌िदेव का असर }

गणेश चतुर्थी का त्योहार भारत के अलग-अलग हिस्सों में अलग-अलग तरीके से मनाया जाता है। हिंदू धर्म के मुताबिक इस दिन भगवान गणेश का जन्म हुआ था। इसी के उपलक्ष्य में इस त्योहार को बड़ी धूमधाम के साथ मनाया जाता है। यह त्योहार भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को पड़ता है। महाराष्ट्र और उसके आस-पास के क्षेत्रों में गणेश चतुर्थी के बाद 10 दिन तक गणेशोत्सव मनाया जाता है। इस दौरान श्रद्धालु अपने घर में भगवान श्री गणेश…
Loading...