1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Gangrape accused Mahant Sitaram : आरोपी महंत के पुश्तैनी घर पर चला बुलडोजर, नंगे पांव कराई गई परेड

Gangrape accused Mahant Sitaram : आरोपी महंत के पुश्तैनी घर पर चला बुलडोजर, नंगे पांव कराई गई परेड

Gangrape accused Mahant Sitaram : मध्य प्रदेश के रीवा के राज निवास में नाबालिग छात्रा के साथ गैंगरेप का मुख्य आरोपी महंत सीताराम को पुलिस ने चौतरफा शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। पुलिस ने रसूखदार महंत को गिरफ्तार करते ही उसके पुस्तैनी मकान को बुलडोजर से नेस्तानाबूद करते हुए सारी हेकड़ी ने निकाल दी है। इतना ही नहीं पुलिस ने सिविल लाइन थाना लेकर जिला न्यायालय तक जुलूस निकाला है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

Gangrape accused Mahant Sitaram : मध्य प्रदेश के रीवा के राज निवास में नाबालिग छात्रा के साथ गैंगरेप का मुख्य आरोपी (Main Accused of Gang Rape) महंत सीताराम (Mahant Sitaram) को पुलिस ने चौतरफा शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। पुलिस ने रसूखदार महंत को गिरफ्तार करते ही उसके पुस्तैनी मकान को बुलडोजर से नेस्तानाबूद करते हुए सारी हेकड़ी ने निकाल दी है। इतना ही नहीं पुलिस ने सिविल लाइन थाना लेकर जिला न्यायालय तक जुलूस निकाला है। पुलिस सभी आरोपियों की संपत्ति खंगाल रही है। ताकि इसे जमींदोज किया जा सके। यूपी के बाद अब एमपी में भी बुलडोजर का कमाल देखने को मिलने लगा है। राज निवास में हुए गैंगरेप की घिनौनी करतूत से खफा हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chouhan) का बुलडोजर महंत सीताराम के पुश्तैनी आवास (Ancestral Home) तक पहुंच गया है।

पढ़ें :- सीएम योगी बोले-कभी सफल नहीं होगी अवैध धर्मांतरण वालों की मंशा, जाग चुका है देश

मुख्यमंत्री के फरमान के अब एक्शन में आये प्रशासन ने सीताराम के गांव गुड़वा में बने पक्के भवन को बुलडोजर से जमींदोज कर दिया है। बता दें कि नाबालिग छात्रा से राज निवास में 28 मार्च को बलात्कार करने के बाद महंत भागकर इसी भवन में छिपा था। सुबह सिगंरौली भाग कर पहुंच गया था। 30 मार्च को पुलिस ने महंत को बस स्टैंड बैढन से गिरफ्तार कर लिया था। 31 तारीख को सीताराम का जिला अस्पताल में मेडिकल कराया गया। सिविल लाइन पुलिस सीताराम को जेल भेजने पहले ने कोर्ट में पेश करने ले गई।

पुलिस की गाड़ी ख़राब हो गई थी लिहाजा महंत सीताराम (Mahant Sitaram) को थाने से कोर्ट तक पैदल मार्च करा दिया है। महंत सीताराम (Mahant Sitaram) तपती धूप में पैदल चल रहा था। इसके चेहरे पर नकाब था, लेकिन उसके पैरों में न तो जूते थे और न ही चप्पल। मुख्य आरोपी सीताराम के साथ हिस्ट्रीशीटर विनोद पाण्डेय (History sheeter Vinod Pandey) भी था। पुलिस के सुरक्षा पहरे पर दोनों आरोपी कोर्ट में पहुंचाये गए। यहां पहुंचते ही अधिवक्ताओं ने मुर्दाबाद के नारे लगाए और फांसी देने की मांग की है। पुलिस कस्टडी में महंत को देखने के लिए कोर्ट में भारी हुजूम उमड़ पड़ा और लोग गन्दी गालियां दे रहे थे। पुलिस को अधिवक्ताओं को समझने में काफी मशक्क्त करनी पड़ी। पुलिस ने मुख्य आरोपी की काली करतूत उजागर करने के लिए 2 दिन की कोर्ट के रिमांड ली है।

कोर्ट से थाने ले जाते वक्त महंत सीताराम (Mahant Sitaram) के सिर पर हेलमेट लगाना पड़ा। अब पुलिस कड़ाई से पूछताछ कर रही है। पुलिस महंत की काली करतूतों का चिट्ठा खोलने के लिए अलग-अलग लोगों से पूछताछ और साइबर सेल की मदद ले रही है। गैंगरेप का दूसरा आरोपी विनोद पाण्डेय (Vinod Pandey) पुराना हिस्ट्रीशीटर है। इस पर अलग अलग थानों में 35 से अधिक मामले दर्ज हैं। राज निवास का कमरा नं. 4 विनोद पांडेय के नाम पर ही अलॉट किया गया था और इसी ने महंत तक नाबालिग को पहुंचाया और किडनैप करने का प्रयास किया था। बता दें कि राज निवास में नाबालिग के साथ गैंगरेप में 4 आरोपी बनाए गए हैं जिसमें 2 आरोपियों को पुलिस ने पकड़ लिया है जबकि 2 की तलाश कर रही है।

पढ़ें :- Asaram Bapu News: आसाराम बापू को लगा बड़ा झटका, शिष्या से दुष्कर्म मामले में दोषी करार
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...