बहू की डिलीवरी कराने आई महिला से अस्पताल में गैंगरेप, शोर मचाने पर मुंह में ठूंस दिया कपड़ा

gangrep
बहू की डिलीवरी कराने आई महिला से अस्पताल में गैंगरेप, शोर मचाने पर मुंह में ठूंस दिया था कपड़ा

नई दिल्ली। राजस्थान के अलवर में गैंगरेप की घटना को लेकर चौतरफा घिरी वहां की पुलिस और प्रशासन एक बार फिर सवालों के घेरे में खड़ी हो गयी है। एक सप्ताह के अंदर वहां पर दूसरी गैंगरेप की बड़ी वारदात हुई है। अलवर  कठूमर के सरकारी अस्पताल में यह वारदात हुई, जहां एम्बुलेंस के चालक और कम्पाउंडर ने डिलीवरी रूम में महिला के मुंह में कपड़ा ठूंसकर गैंगरेप किया। विरोध पर महिला की पिटाई कर भाग निकला। इस वारदात के बाद वहां हड़कंप मच गया। आनन—फानन में इसकी शिकायत पुलिस से की गई, जिसके बाद पुलिस ने मामला दर्जकर आरोपी की तलाश शुरू कर दी है।

Gangrapes Second Major Incident In Alwar Rajasthan :

अलवर में बड़ रही लगातार गैंगरेप की घटना के बाद से वहां की सरकार पर विपक्ष हमलावारा हो गयी है। पीड़िता ने बताया कि वह कठूमर क्षेत्र की रहने वाली है। पांच मई को वह अपने बहू की डिलीवरी कराने अस्पताल में आई थी। बहू की मदद के लिए वहां पर वह अटेंडर के रूप में मौजूद थी। उसका आरोप है कि सात मई को रात में एक कंपाउंडर उसके पास आया और उसने प्रसूता के नाम पर कागज बनवाने के लिए कहा।

आरोप है कि इस बहाने से उसे डिलवरी रूम में ले गया, जहां पर एंबुलेंस का ड्राइवर पहले से ही मौजूद था। आरोप है कि उसके मुंह में कपड़ा ठूंसकर उसके साथ रेप किया गया। विरोध पर उसे मारा पीटा गया। आरोप है कि उसने शोर मचाया तो उन्होंने मुझे थप्पड़ मारे और धमकाया की किसी को भी बताया तो बहू की डिलीवरी केस को खराब कर देंगे और उसके नवजात पोते को मार देंगे।

मारपीट के कारण मैं बेहद डर गई और आनन-फानन में प्रेग्नेंट बहू की छुट्टी करा कर पोते और बहू को सुरक्षित घर ले आई। समाज के डर से मैं पुलिस को कुछ नहीं बता सकी, लेकिन आखिर में हिम्मत जुटाकर मैंने मामला दर्ज करवाया। पुलिस का कहना है कि रिपोर्ट दर्जकर आरोपियों की तलाश की जा रही है।

नई दिल्ली। राजस्थान के अलवर में गैंगरेप की घटना को लेकर चौतरफा घिरी वहां की पुलिस और प्रशासन एक बार फिर सवालों के घेरे में खड़ी हो गयी है। एक सप्ताह के अंदर वहां पर दूसरी गैंगरेप की बड़ी वारदात हुई है। अलवर  कठूमर के सरकारी अस्पताल में यह वारदात हुई, जहां एम्बुलेंस के चालक और कम्पाउंडर ने डिलीवरी रूम में महिला के मुंह में कपड़ा ठूंसकर गैंगरेप किया। विरोध पर महिला की पिटाई कर भाग निकला। इस वारदात के बाद वहां हड़कंप मच गया। आनन—फानन में इसकी शिकायत पुलिस से की गई, जिसके बाद पुलिस ने मामला दर्जकर आरोपी की तलाश शुरू कर दी है। अलवर में बड़ रही लगातार गैंगरेप की घटना के बाद से वहां की सरकार पर विपक्ष हमलावारा हो गयी है। पीड़िता ने बताया कि वह कठूमर क्षेत्र की रहने वाली है। पांच मई को वह अपने बहू की डिलीवरी कराने अस्पताल में आई थी। बहू की मदद के लिए वहां पर वह अटेंडर के रूप में मौजूद थी। उसका आरोप है कि सात मई को रात में एक कंपाउंडर उसके पास आया और उसने प्रसूता के नाम पर कागज बनवाने के लिए कहा। आरोप है कि इस बहाने से उसे डिलवरी रूम में ले गया, जहां पर एंबुलेंस का ड्राइवर पहले से ही मौजूद था। आरोप है कि उसके मुंह में कपड़ा ठूंसकर उसके साथ रेप किया गया। विरोध पर उसे मारा पीटा गया। आरोप है कि उसने शोर मचाया तो उन्होंने मुझे थप्पड़ मारे और धमकाया की किसी को भी बताया तो बहू की डिलीवरी केस को खराब कर देंगे और उसके नवजात पोते को मार देंगे। मारपीट के कारण मैं बेहद डर गई और आनन-फानन में प्रेग्नेंट बहू की छुट्टी करा कर पोते और बहू को सुरक्षित घर ले आई। समाज के डर से मैं पुलिस को कुछ नहीं बता सकी, लेकिन आखिर में हिम्मत जुटाकर मैंने मामला दर्ज करवाया। पुलिस का कहना है कि रिपोर्ट दर्जकर आरोपियों की तलाश की जा रही है।