आदित्य सचदेवा हत्याकांड: पूर्व MLC का बेटा रॉकी यादव दोषी करार, 6 सितंबर को होगी सजा

पटना। बिहार के गया में रोड रेज आदित्य सचदेवा हत्याकांड मामले में जेडीयू की पूर्व एमएलसी मनोरमा देवी के बेटे रॉकी यादव को कोर्ट ने दोषी करार दे दिया है। इस मामले में सजा का ऐलान 6 सितंबर को किया जाएगा। इस केस की सुनवाई 15 महीने 23 दिन में पूरी की गयी है। फैसले के मद्देनजर प्रशासन ने सुरक्षा के कड़े इंतेजाम किए थे।
इस मामले में धारा-302 के तहत रॉकी यादव को दोषी पाया गया है, वहीं उसके भाई टेनी यादव और बॉडीगार्ड राजेश को भी धारा-302 के तहत दोषी पाया गया है। वहीं रॉकी के पिता बिंदी यादव को धारा-212 के तहत साक्ष्य छुपाने का दोषी पाया गया है। आपको दें कि रॉकी यादव नेशनल शूटिंग चैंपियनशिप जीत चुका है। उसे घातक हथियार रखने का शौक था और हथियारों के साथ तस्वीरें भी वो फेसबुक पर डालता रहता था।

ये था मामला-

{ यह भी पढ़ें:- बिहार के गया से पकड़ा गया एक आतंकी, दो साथी फरार }

बीती 7 मई 2016 को आदित्य सचदेवा अपने दोस्त नासिर हुसैन, आयुष अग्रवाल, मो. कैफी, अंकित अग्रवाल के साथ बोधगया से गया कार से पार्टी कर लौट रहा था। रास्ते में साइड पास मांगने के दौरान उसे झगड़े में रॉकी यादव ने गया के पुलिस लाइन रोड पर गोली मार दी थी। मेडिकल कॉलेज ले जाते समय आदित्य की मौत हो गयी थी। इस मामले में रॉकी यादव के साथ रहे टेनी यादव और एमएलसी के अंगरक्षक राजेश कुमार को भी जेल भेजा गया था।

आरोपी रॉकी यादव

फिलहाल टेनी यादव और अंगरक्षक बाहर हैं। रॉकी यादव अभी जेल में है। इस मामले में 9 मई 2016 को रामपुर थाना में कांड संख्या 130/16 दर्ज है। 12 मई को रॉकी यादव को गिरफ्तार किया गया था। दोनों पक्षों के सारे बयान दर्ज किए गए थे।

{ यह भी पढ़ें:- क्या बिहार में बिखरती कांग्रेस को साध पाएंगे राहुल गांधी }

 

हथियारों का शौकीन है हत्यारोपी-

रॉकी को हथियारों का शौक इतना है कि उसने अपने फेसबुक प्रोफाइल पर प्रतिबंधित हथियारों की तस्वीरें लगा रखी थीं। एक तस्वीर में सुरक्षाकर्मियों को मिलने वाले अत्याधुनिक हथियारों का ढ़ेर है। इस पोस्ट में विश्वकर्मा पूजा के मौके पर हथियारों की पूजा की बात कही गई है। कई लोगों ने इस पोस्ट पर कमेंट भी किया था कि नेता जी इतने हथियारों का क्या करोगे? दूसरी तस्वीर में वह हथियारबंद लोगों के साथ खड़ा है।

{ यह भी पढ़ें:- गौरी लंकेश के बाद बिहार के पत्रकार पर तड़तड़ाई गोलियां, हालत गंभीर }

आदित्य के माता-पिता को है कोर्ट पर भरोसा-

आदित्य के पिता श्याम सचदेवा ने कहा, इस फैसले का इंतजार समाज और देश को था। कोर्ट के फैसले पर भरोसा था और नई सुबह की उम्मीद के साथ पूरी आशा थी कि हमें न्याय मिलेगा। आदित्य के माता-पिता कोर्ट के फैसले से खुश हैं, उनकी आंखों में अपने बेटे का दर्द अब भी छलक रहा है। वो रॉकी यादव को कड़ी से कड़ी सजा दिलाना चाहते हैं ताकि फिर कोई मदांध होकर किसी की हत्या ना कर सके।