‘गायत्री’ ही नहीं ये नेता भी हैं बलात्कार के आरोपी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के परिणाम सामने आने के बाद पूर्व कैबिनेट मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति को बलात्कार के आरोप में पुलिस ने सलाखों के पीछे पहुंचा दिया। गायत्री प्रजापति पर एक एक युवती ने यौन शोषण का आरोप लगाया था, पुलिस के कार्रवाई ना करने के बाद पीड़िता ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद लखनऊ पुलिस ने मामला दर्ज कर चुनावी परिणाम के बाद गायत्री को गिरफ्तार किया। समाजवादी सरकार में ऐसे अन्य नेता भी हैं, जिन पर सत्ता में रहने के दौरान ऐसे आरोप लगे और वो कानूनी शिकंजे से बच निकले।



यूपी की सत्ता में पूरे 15 साल बाद प्रचंड बहुमत से जीत हासिल कर आने वाली भारतीय जनता पार्टी ने अपनी चुनावी जनसभाओं में कानून व्यवस्था को ही बड़ा मुद्दा बनाया था। अब प्रदेश की कमान संभालने के बाद भाजपा के लिये कानून व्यवस्था बड़ी चुनौती होगी। ऐसे में देखना है कि गायत्री प्रजापति के अलावा ऐसे आरोपों से घिरे अन्य नेताओं पर कार्रवाई होगी या नहीं?




पूर्व विधायक अरुण वर्मा पर लगा रेप का आरोप—

अखिलेश यादव के करीबी सुल्तानपुर से पूर्व विधायक अरुण वर्मा पर एक युवती ने बलात्कार का आरोप लगाया था, जिसकी कुछ समय बाद संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गयी। विधानसभा चुनाव के मद्देनजर इस मामले की कार्रवाई भी ठंडे बस्ते में चली गयी। बड़ी वजह यह भी थी कि उस दौरान सपा सत्ता में थी, जिसके चलते अरुण वेरमा गिरफ्तारी से बच गए।




पीस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पर यौन शोषण का आरोप—

पीस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डा.अयूब पर भी बलात्कार का आरोप लग चुका है। अय्यूब के भी जल्द गिरफ्तार होने की संभावना जताई जा रही है। डा. अय्यूब पर एक युवती के इलाज के बहाने उसके साथ यौन शोषण करने का आरोप लग चुका है।

loading…