पर्दाफाश: अधेरी रात में प्रेमी से मिलने पहुंची थी चंदना और फिर

गाजीपुर पुलिस , ह्त्या का खुलासा
पर्दाफाश: अधेरी रात में प्रेमी से मिलने पहुंची थी चंदना और फिर
गाजीपुर। दलित युवती की हत्या का पर्दाफाश पुलिस ने मंगलवार को कर दिया। पुलिस अधीक्षक सोमेन वर्मा ने पत्रकार वार्ता में बताया कि दलित युवती की प्रेमी ने शक होने पर चाकू मारकर हत्या कर दी। पुलिस ने बताया कि युवती का मोबाइल हमेशा व्यस्‍त रहता था। जिससे उसके प्रेमी को शक हो गया कि उसका किसी और से अफेयर चल रहा है। घटना 16 मार्च की सुबह ही मऊ जनपद के मुहम्मदाबाद गोहना थाना क्षेत्र की है। यहां के…

गाजीपुर। दलित युवती की हत्या का पर्दाफाश पुलिस ने मंगलवार को कर दिया। पुलिस अधीक्षक सोमेन वर्मा ने पत्रकार वार्ता में बताया कि दलित युवती की प्रेमी ने शक होने पर चाकू मारकर हत्या कर दी। पुलिस ने बताया कि युवती का मोबाइल हमेशा व्यस्‍त रहता था। जिससे उसके प्रेमी को शक हो गया कि उसका किसी और से अफेयर चल रहा है।

घटना 16 मार्च की सुबह ही मऊ जनपद के मुहम्मदाबाद गोहना थाना क्षेत्र की है। यहां के उमनपुर गांव निवासी विवेक कुमार चौहान सुबह ही बस पकड़कर रायपुर बाजार में पहुंच गया और मोबाइल से मृतक चंदना को खेत में अकेले मिलने के लिए बुलाया, प्रेमी से मिलने के लिए चंदना खेत में पहुंच गयी। दोनो के बीच मोबाइल को लेकर गर्मागरम बहस शुरू हो गयी और क्रोधित होकर चंदना के उपर उसके प्रेमी ने ताबड़तोड़ कई वार कर दिये, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गयी।

{ यह भी पढ़ें:- गाजीपुर: छुट्टी पर आये जवान की मौत, सदमे में परिवार }

बहरियाबाद पुलिस ने सर्विलांस के माध्यम से प्रेमी के घर दबिश देकर विवेक चौहान को हिरासत में ले लिया। पुलिसिया पूंछताछ में विवेक चौहान ने तोते की तरह सच्चाई कह दी। विवेक चौहान ने पुलिस को बताया कि मृतका चंदना के घर के बगल में मेरे नाना का घर था। नाना के घर गृह प्रवेश के दौरान दोनो की आंखे चार हुई। कुछ ही दिन बाद विवेक ने मोबाइल व नकदी तथा अन्य सामान देता था और उससे हमेशा कहता था कि चलो की भागकर शादी कर लें।

शादी से प्रेमिका द्वारा इंकार करने और मोबाइल से बात नही करने पर प्रेमी को शंका हो गया कि इसका अफेयर्स किसी और से चल रहा है। जिससे चलते उसने हत्या कर दी। पकड़ने वाली टीम में बहरियाबाद प्रभारी निरीक्षक शमीम अली सिद्दीकी, प्रभारी निरीक्षक विपिन सिंह, उपनिरीक्षक प्रशांत कुमार चौधरी, विकास श्रीवास्तव, संजय प्रसाद, दिनेश यादव आदि लोग थे। पुलिस अधीक्षक ने टीम को 10 हजार रूपये पुरस्कार के रूप में देने की घोषणा की।

{ यह भी पढ़ें:- मंत्री ओमप्रकाश राजभर पर भारी पड़े अंसारी बंधु, कासिमाबाद ब्लॉक पर जमाया कब्जा }

रिपोर्ट-राकेश पांडे

Loading...