रकम दूना करने का झांसा, 16 करोड़ का वारा-न्यारा

gazipur froud
Demo Pic

गाजीपुर। रकम दुगना करने के नाम पर 16 करोड रुपए का फर्जीवाड़ा भदोही जिले में सामने आया है, जिसमें एक फाइनेंस कंपनी के प्रबंधक को गिरफ्तार किया गया है।

Gazipur Rakam Duna Karne Ka Jhasa :

जानकारी के अनुसार कंपनी के प्रबंधक निरंजन उपाध्याय को ज्ञानपुर रोड से पुलिस ने गिरफ्तार किया है और उसके साथियों की छापेमारी कर तलाश की जा रही है। भदोही SP सचिंद्र पटेल ने बताया कि भदोही जिले के पूरेश्याम निवासी विजय शंकर मौर्य ने कोतवाली में तहरीर दी थी कि भदोही में खोली गई स्टेटएस फाइनेंसियल निधि लिमिटेड कंपनी लोगों से 29 लाख के चेक जमा कराने के बाद कमीशन का ऐसा ब्याज सहित 36 लाख रुपए लेकर भाग गई।

इस मामले में पुलिस ने जालसाजी के आरोप में कई धाराओं में मुकदमा दर्ज किया। मामले की जांच के लिए भदोही पुलिस और क्राइम ब्रांच की टीम गठित की गई । सर्विलांस के जरिए मंगलवार की देर रात प्रबंधक निरंजन उपाध्याय को गिरफ्तार कर लिया गया। बताया जाता है कि निरंजन जिला गाजीपुर के खुदरा गाव का निवासी है। इसके अलावा बाकी उसके साथियों की गिरफ्तारी के लिए दबिश दी जा रही है।

पूछताछ में निरंजन ने बताया है कि वह वर्तमान में HDFC बैंक का फाइनेंसियल कार्य करता है। मित्रों के साथ मिलकर 2013 में भदोही के दिव्या लान में उसने फाइनेंस कंपनी खोली थी। कुछ समय में रकम दोगुनी करने और चौगुनी करने का लालच देकर 3 साल में उसने 16 करोड़ से अधिक की धनराशि जमा कराने के बाद 2016 में फरार हो गया।

बता दें कि निवेशकों का पैसा आईसीआईसीआई बैंक HDFC बैंक इंडसइंड बैंक और केनरा बैंक के कंपनी खाते में जमा किया जाता था।

गाजीपुर। रकम दुगना करने के नाम पर 16 करोड रुपए का फर्जीवाड़ा भदोही जिले में सामने आया है, जिसमें एक फाइनेंस कंपनी के प्रबंधक को गिरफ्तार किया गया है।जानकारी के अनुसार कंपनी के प्रबंधक निरंजन उपाध्याय को ज्ञानपुर रोड से पुलिस ने गिरफ्तार किया है और उसके साथियों की छापेमारी कर तलाश की जा रही है। भदोही SP सचिंद्र पटेल ने बताया कि भदोही जिले के पूरेश्याम निवासी विजय शंकर मौर्य ने कोतवाली में तहरीर दी थी कि भदोही में खोली गई स्टेटएस फाइनेंसियल निधि लिमिटेड कंपनी लोगों से 29 लाख के चेक जमा कराने के बाद कमीशन का ऐसा ब्याज सहित 36 लाख रुपए लेकर भाग गई।इस मामले में पुलिस ने जालसाजी के आरोप में कई धाराओं में मुकदमा दर्ज किया। मामले की जांच के लिए भदोही पुलिस और क्राइम ब्रांच की टीम गठित की गई । सर्विलांस के जरिए मंगलवार की देर रात प्रबंधक निरंजन उपाध्याय को गिरफ्तार कर लिया गया। बताया जाता है कि निरंजन जिला गाजीपुर के खुदरा गाव का निवासी है। इसके अलावा बाकी उसके साथियों की गिरफ्तारी के लिए दबिश दी जा रही है।पूछताछ में निरंजन ने बताया है कि वह वर्तमान में HDFC बैंक का फाइनेंसियल कार्य करता है। मित्रों के साथ मिलकर 2013 में भदोही के दिव्या लान में उसने फाइनेंस कंपनी खोली थी। कुछ समय में रकम दोगुनी करने और चौगुनी करने का लालच देकर 3 साल में उसने 16 करोड़ से अधिक की धनराशि जमा कराने के बाद 2016 में फरार हो गया।बता दें कि निवेशकों का पैसा आईसीआईसीआई बैंक HDFC बैंक इंडसइंड बैंक और केनरा बैंक के कंपनी खाते में जमा किया जाता था।