1. हिन्दी समाचार
  2. कोटा मे बच्चों की मौत पर घिरी गहलोत सरकार, अस्पताल पहुंचे मंत्री का कारपेट बिछाकर हुआ स्वागत

कोटा मे बच्चों की मौत पर घिरी गहलोत सरकार, अस्पताल पहुंचे मंत्री का कारपेट बिछाकर हुआ स्वागत

By शिव मौर्या 
Updated Date

Gehlot Government Surrounded By Death Of Children In Kota Minister Arrived At Hospital Welcomed By Laying Carpet

कोटा। राजस्थान के कोटा स्थित जेके लोन अस्पताल में नवजातों की मौत का सिलासिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। अब तक वहां पर 105 बच्चों की मौत हो चुकी है। बच्चों की मौत के बढ़ते आंकड़े को लेकर विपक्ष गहलोत सरकार पर निशाना साध रहा है। वहीं, चौतरफा घिरने के बाद कोटा के प्रभारी मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास और स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा पीड़ितों से मिलने के लिए अस्पताल पहुंचे। वहीं, इस दौरान वहां के प्रशासन ने मंत्रियों का स्वागत हरे रंग का कारपेट बिछाकर किया। इसके साथ ही मंत्रियों के दौरे की भनक लगते ही वहां साफ सफाई और रंग-रोगन भी कराया गया।

पढ़ें :- मुख्यमंत्री के दफ्तर के कई कर्मचारी कोरोना संक्रमित, सीएम योगी ने खुद को किया आइसोलेट

वहीं, मंत्रियों के जेके लोन अस्पताल पहुंचते ही बीजेपी कार्यकर्ताओं ने जमकर विरोध किया। हालांकि मौके पर मौजूद पुलिस ने कई लोगों को हिरासत में ले लिया है। वहीं, सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि देश के अंदर, प्रदेश के अंदर, कई जगह, अस्पताल के अंदर कुछ कमियां मिलेंगी। उसकी आलोचना करने का हक मीडिया और लोग रखते हैं, उससे सरकार की आंखे खुलती हैं और सरकार उसको सुधारती है।

गुरुवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने राजस्थान के सीएम से फोन पर बात करने के बाद विशेषज्ञ दल भेजने के निर्देश दिए। दल अस्पताल में कमियों का विश्लेषण करने बाद तत्काल जरूरी कदमों की अनुशंसा करेगा। इसमें जोधपुर एम्स के बाल चिकित्सा विभागाध्यक्ष डॉ. कुलदीप सिंह, मंत्रालय के वरिष्ठ क्षेत्रीय निदेशक डॉ. दीपक सक्सेना, एम्स जोधपुर के निओनेटोलॉजिस्ट डॉ. अरुण सिंह और एनएचएसआरसी सलाहकार डॉ. हिमांशु भूषण शामिल हैं।

वहीं, डॉ. हर्षवर्धन ने बताया कि विशेषज्ञों का दल राज्य सरकार के साथ मिलकर कोटा मेडिकल कॉलेज में मातृ, नवजात शिशु और बाल चिकित्सा देखभाल सेवाओं की समीक्षा करेगा। साथ ही कमियों के विश्लेषण के आधार पर संयुक्त कार्य योजना भी बनाएगा। ताकि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन और राज्य चिकित्सा शिक्षा विभाग के जरिए कोटा मेडिकल कॉलेज को वित्तीय सहायता प्रदान की जा सके।

पढ़ें :- ब्रैडपीट को भाया था भारत का ये प्राचीन शहर, पसंद आई थी साउथ से लेकर नार्थ तक की सभ्यता

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...