इस मंदिर में होता है प्यार में पागल आशिकों का इलाज

Ghost And Spirit Of Love Discharged In Saharanpur Behat Road Temple Lovers Are Brought Here

सहारनपुर: अभी तक आपने कई मंदिरों के बारे में सुना व देखा होगा। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं जिसके बारे में सुनकर आप भी हैरान रह जायेंगे। जी हाँ हम सहारनपुर में स्थित हनुमान मंदिर की बात कर रहे हैं। यहाँ लोग सिर से आशिकी का भूत उतारने आते हैं। सुनने में भले ही यह अजीबोगरीब लगे, लेकिन यह सच है।




इस शहर की स्थापना सन् 1340 में हुई थी। यह शहर नाम सहारनपुर मुस्लिम संत शाह हरन चिश्ती के नाम पर रखा गया। यह मंदिर बेहट रोड पर स्थित है। मंदिर में हर मंगलवार और शनिवार को एक विशेष पूजा होती है, जिसके बाद मंदिर के पुजारी ‘प्यार में पागल’ हुए युवकों और उनके परिजनों को कुछ उपाय बताते हैं। मान्यता है कि पुजारी के बताए उपाय से आशिकों के सिर से प्यार का भूत उतर जाता है।




इसकी स्थापना लगभग आठ साल पहले हुई थी। यह मंदिर राजस्थान के मेहंदीपुर बालाजी के तर्ज पर तैयार की गई है। यहां काल भैरव और प्रेतराज सरकार के अतिरिक्त महाराज श्रीराम भी विराजमान हैं। यहां पर हर शनिवार और मंगलवार को विशेष प्रकार पूजा और अनुष्ठान किए जाते हैं। पूजा के बाद मंदिर के पुजारी आशिक के परिवारों और आशिकों को भी कुछ उपाय बताते हैं। कहते हैं कि उन उपायों पर अमल करने लोगों की समस्या का समाधान हो जाता है।

सहारनपुर: अभी तक आपने कई मंदिरों के बारे में सुना व देखा होगा। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं जिसके बारे में सुनकर आप भी हैरान रह जायेंगे। जी हाँ हम सहारनपुर में स्थित हनुमान मंदिर की बात कर रहे हैं। यहाँ लोग सिर से आशिकी का भूत उतारने आते हैं। सुनने में भले ही यह अजीबोगरीब लगे, लेकिन यह सच है। इस शहर की स्थापना सन् 1340 में हुई थी। यह…