पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद लड़की बनी टैक्सी ड्राइवर, जानिए क्यों

अहमदाबाद। पढ़ाई-लिखाई करने के बाद यहां की एक लड़की दूसरों की न सुनकर उसने अपने मन की सुनी और कुछ उसने ऐसा किया की आप भी सुन कर चकरा जाएंगे। पोस्ट ग्रेजुएट की डिग्री हासिल करने के बाद बजाए अच्छी नौकरी करने के मोनिका ने टैक्सी ड्राइवर बनने का फैसला किया। गुजरात की पहली महिला टैक्सी ड्राइवर मोनिका ने एप आधारित टैक्सी कंपनी उबर से संपर्क किया और बन गई गुजरात की पहली महिला टैक्सी ड्राइवर। सब मोनिका के इस फैसले से हैरान हैं। इतना पढ़ने-लिखने के बाद मोनिका ने टैक्सी ड्राइवर की नौकरी चुनी। परिवारवालों ने समझाने की कोशिश भी की, लेकिन मोनिका ने अपने दिल के आगे किसी की न सुनी।

मोनिका ने खुद अपने फेसबुक पेज पर इस बारे में पोस्ट लिखा है। मोनिका ने लिखा है कि उसे 9-5 की नौकरी करनी कभी भी पंसद नहीं थी। उसे घूमने और ड्राइविंग का बहुत शौक है। वो हमेशा से ऐसी नौकरी करना चाहती थी, जिसमें उसे गाड़ी चलाने का मौका मिले। पोस्ट ग्रेजुएशन करने के बाद जब नौकरी की बारी आई तो उसने टैक्सी ड्राइवर बनने की सोची। उसने ओला से संपर्क किया, लेकिन लड़की होने की वजह से उसे वहां नौकरी नहीं दी गई।

मोनिका हर हाल में टैक्सी ड्राइवर ही बनना चाहती थी, इसलिए उसने उबर से संपर्क किया। यहां उसे नौकरी मिल गई। मोनिका अपनी इस नौकरी से बेहद खुश है। वो कहती है कि वो अपनी इस नौकरी से बेहद खुश है और इसे इंज्वाय कर रही है। मोनिका ने कहा अब मैं जी भर कर गाड़ी चला सकती हूं और गाड़ी चलाने के साथ-साथ कमाई भी कर सकती हूं।