1. हिन्दी समाचार
  2. बकरी और फल भी कोरोना की चपेट में आए, वैज्ञानिकों में मचा हड़कंप

बकरी और फल भी कोरोना की चपेट में आए, वैज्ञानिकों में मचा हड़कंप

Goat And Fruit Also Hit The Corona Stirring Scientists

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

लंदन: कोरोना वायरस का कहर सिर्फ इंसानों पर ही नहीं बरस रहा बल्कि जानवर भी इसकी चपेट में आते जा रहे हैं । चमगादड़ों, कुत्तों और बिल्लियों के बाद अब अफ्रीकी देश में बकरी और फलों के कोरोना पॉ़जिटिव पाए जाने के बाद शोधकर्ताओं में हड़कंप मच गया है। यह देश है तंजानिया जहां एक बकरी और एक विशेष प्रकार के फल पॉपॉ में कोरोना वायरस के होने की पुष्टि हुई है।

पढ़ें :- नौतनवां:एक साथ उठी पति-पत्नी की अर्थिया,रो उठा पूरा नगर

इसके बाद वैज्ञानिकों के लिए एक नई समस्या खड़ी हो गई है। बकरी और फलों के कोरोना पॉ़जिटिव पाए जाने के बाद देश के राष्ट्रपति जॉन मागुफुली ने कहा कि टेस्ट किट सही नहीं है, इसकी जांच होनी चाहिए। हालांकि, कुछ दिनों पहले ही तंजानिया में राष्ट्रपति मागुफुली द्वार कोरोना वायरस के मामले छिपाने के लिए दुनिया भर से काफी खरी-खोटी सुननी पड़ी थी क्योंकि उस समय मामले छिपाने के साथ-साथ मागुफुली ने अपने देशवासियों से एक ऐसी बात कही जिसपर लोग उनका मजाक उड़ा रहे थे। उन्होंने कहा था कि आप लोग प्रार्थना कीजिए कि वायरस आप पर हमला न करे।

राष्ट्रपति जॉन मागुफुली ने कहा कि हमारे यहां विदेश से कोरोना वायरस क टेस्ट किट आई हैं उसमें गड़बड़ हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे कैसे हो सकता है कि पॉपॉ फल और बकरी कोरोना पॉजिटिव हों। इसके बाद राष्ट्रपति मागुफुली ने अपने यहां की सेनाओं को कहा है कि टेस्ट किट की जांच कराएं क्योंकि जांच करने वाले लोगों ने इंसानों के अलावा जानवरों के भी सैंपल जमा किए थे। ये सैंपल बकरी, पॉपॉ फल और भेड़ से लिए गए थे।

इस सैंपल को इंसानों के नाम और उम्र दिए गए थे। इसके बाद सैंपल को जांच के लिए तंजानिया लेबोरेटरी में भेजा गया था। जहां जांच में बकरी और पॉपॉ फल कोरोना पॉजिटिव निकले। अब राष्ट्रपति मागुफुली कह रहे हैं कि इस जांच में आई गड़बड़ी से ये पता चलता है कि हमारे यहां बहुत से लोग कोरोना वायरस से संक्रमित नहीं है। लेकिन हमें इस बात की दोबारा जांच करानी होगी।

रविवार तक तंजानिया में कोरोना वायरस के कुल 480 मामले थे। जबकि, वायरस के संक्रमण की वजह से 17 लोगों की मौत हो चुकी है। लेकिन देश की राजधानी डार-ए-सलाम के प्रशासन की तरफ से हर दिन का कोरोना बुलेटिन भी जारी नहीं होता।राष्ट्रपति मागुफुली ने कहा कि वो एक प्लेन मैडागास्कर भेज रहे हैं ताकि वहां से हर्बल दवा ला सकें जिससे कोरोना वायरस का संक्रमण ठीक होने का दावा किया जा रहा है।

पढ़ें :- किसान आंदोलनः 10वें दौर की बातचीत बेनतीजा, 22 जनवरी को होगी अगली बैठक

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...