अमेरिका: चौदह करोड़ में बिका ये अनोखा सिक्का

gold coin
अमेरिका: चौदह करोड़ में बिका ये अनोखा सिक्का

लॉस एंजिलिस। अमेरिका में एक सोने का सिक्का 17 लाख अमेकिरी डॉलर यानी करीब चौदह करोड़ रूपए में बिका है। ये सिक्क 18वीं सदी का है जिस पर अमेरिका के पहले पहले राष्ट्रपति जॉर्ज वॉशिंगटन की तस्वीर छपी है। चैरिटी के लिए गुरुवार को इस दुर्लभ सिक्के की नीलामी की गई।

Gold Coin Sells For 1 7 Million Us Dollars At America :

1972 में निर्मित इस सिक्के को कभी भी बाजार में नहीं उतारा गया। जानकारों का कहना है कि अमेरिका में पहली टकसाल शुरू होने के मौके पर यह सिक्का राष्ट्रपति को तोहफे में दिया गया था। ‘हैरिटेज’ नीलाम घर के संस्थापक जिम हालपेरिन ने बताया कि शोध​कर्ता भी इस बात पर सहमत हैं कि ये सिक्का अमेरिका के इतिहास में अहम स्थान रखता है। इस सिक्के के एक ओर राष्ट्रपति की तस्वीर तो दूसरी ओर बाज छपा हुआ है।

बता दें कि अमेरिकी टकसाल की शुरुआत 1792 में हुई थी और एक साल बाद बाजार में नया सिक्का उतारा गया था। यह सिक्का तांबे और चांदी से बना हुआ था। यह दुर्लभ सिक्का दिवंगत एरिक पी. न्यूमैन के पास था। उन्हे ये सिक्का 1942 में मिला था। पिछले साल 106 साल की उम्र में उनका निधन हो गया था। जिसके बाद उनके परिजनों ने इस सिक्के को अपने पास रख लिया था।

लॉस एंजिलिस। अमेरिका में एक सोने का सिक्का 17 लाख अमेकिरी डॉलर यानी करीब चौदह करोड़ रूपए में बिका है। ये सिक्क 18वीं सदी का है जिस पर अमेरिका के पहले पहले राष्ट्रपति जॉर्ज वॉशिंगटन की तस्वीर छपी है। चैरिटी के लिए गुरुवार को इस दुर्लभ सिक्के की नीलामी की गई।1972 में निर्मित इस सिक्के को कभी भी बाजार में नहीं उतारा गया। जानकारों का कहना है कि अमेरिका में पहली टकसाल शुरू होने के मौके पर यह सिक्का राष्ट्रपति को तोहफे में दिया गया था। ‘हैरिटेज’ नीलाम घर के संस्थापक जिम हालपेरिन ने बताया कि शोध​कर्ता भी इस बात पर सहमत हैं कि ये सिक्का अमेरिका के इतिहास में अहम स्थान रखता है। इस सिक्के के एक ओर राष्ट्रपति की तस्वीर तो दूसरी ओर बाज छपा हुआ है।बता दें कि अमेरिकी टकसाल की शुरुआत 1792 में हुई थी और एक साल बाद बाजार में नया सिक्का उतारा गया था। यह सिक्का तांबे और चांदी से बना हुआ था। यह दुर्लभ सिक्का दिवंगत एरिक पी. न्यूमैन के पास था। उन्हे ये सिक्का 1942 में मिला था। पिछले साल 106 साल की उम्र में उनका निधन हो गया था। जिसके बाद उनके परिजनों ने इस सिक्के को अपने पास रख लिया था।