1. हिन्दी समाचार
  2. खबरें
  3. गन्ना किसानों के लिए बड़ी खुशखबरी, गन्ने का एफआरपी 10 रुपये प्रति क्विंटल तक बढ़ा

गन्ना किसानों के लिए बड़ी खुशखबरी, गन्ने का एफआरपी 10 रुपये प्रति क्विंटल तक बढ़ा

By सोने लाल 
Updated Date

नई दिल्ली। पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में बुधवार सुबह हुई कैबिनेट की बैठक में गन्ना किसानों के लिए एक अहम फैसला लिया गया है। जो कि गन्ना किसानों के लिए बड़ी खुशखरी है। किसानों को राहत देते हुए मोदी सरकार ने बड़ा फैसला किय है कि केन्द्र सरकार ने गन्ने का एफआरपी 10 रुपये प्रति क्विटल तक बढ़ा दिया है।

आपको बता दें कि गन्ने की ख़रीद मूल्य को (FRP) के तौर पर घोषित किया जाता है। चीनी वर्ष हर वर्ष 1 अक्टूबर से शुरू होकर अगले साल 30 सितंबर तक चलता है। पिछले साल ख़रीद मूल्य में बढ़ोतरी नहीं किए जाने का किसानों ने विरोध किया था। FRP वो मूल्य होता है जिस दर पर चीनी मिल किसानों से गन्ना खरीदती हैं।

अपको जानकर हैरानी होगी कि गन्ना किसानों के तकरीबन 20 हजार करोड़ रुपये चीनी मिलों पर बकाया है। ऐसे में एफआरपी बढ़ाने का कितना फायदा किसानों को मिलेगा यह कह पाना बेहद मुश्किल है। मोदी सरकार के इस फैसले के बाद गन्ना खरीद मुल्य 285 रुपये प्रति क्विटल हो गया हे। इससे पहले 2019-20 में 2018-19 की तुलना में ख़रीद मूल्य में कोई बदलाव नहीं किया गया था।

आपको बता दें कि एफआरपी के अलावा राज्य सरकार भी अपनी ओर से किसानों के लिए गन्ने का दाम तय करती है। इसे एसएपी (राज्य परामर्शित मूल्य) कहा जाता है। बीते वर्ष 2019-20 के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने गन्ने का राज्य परामर्शित मूल्य (एसएपी) 325 रुपये प्रति क्विंटल तक तय किया था। अगैती प्रजाति के लिए 325, सामान्य प्रजाति के लिए 315 और अनुपयुक्त प्रजाति के लिए 310 रुपये प्रति क्विंटल गन्ना मूल्य निर्धारित किया गया था।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...