Teachers’ Day: Google ने Doodle बनाकर सभी शिक्षकों को किया सम्मान

Teachers' Day: Google ने Doodle बनाकर सभी शिक्षकों को किया सम्मान
Teachers' Day: Google ने Doodle बनाकर सभी शिक्षकों को किया सम्मान

नई दिल्ली। हर खास मौके पर गूगल एक अलग अंदाज में डूडल बनाता है। वहीं आज यानि 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के मौके पर गूगल ने एक बहुत ही प्यारा सा डूडल तैयार किया है। गूगल डूडल में आप देख सकते हैं कि एक एनिमेटेड, मुस्कुराते हुए लाल रंग के ऑक्टोपस के टेंपल्स का इस्तेमाल करते हुए कई कार्यों को करते हुए दिखाया गया है। जैसे- प्रयोगों का संचालन करना, जटिल समीकरणों को हल करना, नोट्स लेना और पढ़ना भी शामिल है।

Google Celebrates Teachers Day With An Animated Doodle :

बता दें कि, भारत में हर साल पूर्व राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन को उनकी जयंती पर उन्हे श्रद्धांजलि देने और उनकी याद में शिक्षक दिवस मनाया जाता है। डॉ राधाकृष्णन एक दार्शनिक, विद्वान, राजनीतिज्ञ और एक अनुकरणीय शिक्षक थे। वह देश के पहले उपराष्ट्रपति और उसके दूसरे राष्ट्रपति थे।

डॉ राधाकृष्णन का जन्म 5 सितंबर, 1888 को तमिलनाडु में हुआ था। वह चेन्नई के प्रेसीडेंसी कॉलेज और कलकत्ता (अब कोलकाता) विश्वविद्यालय में पढ़ाते थे। वह 1931 से 1936 तक आंध्र विश्वविद्यालय के कुलपति रहे और 1962 में, वे देश के राष्ट्रपति बने। जब वे राष्ट्रपति बने, तो उन्होंने अपने शुभचिंतकों को स्पष्ट रूप से बताया कि वे अपना जन्मदिन मनाने के बजाय 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रूप में मनाना चाहते हैं। तब से, उनके जन्मदिन को भारत में शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है।

डॉ. राधाकृष्णन के राष्ट्रपति बनने पर शिक्षक दिवस मनाने की परंपरा शुरू हुई। डॉ राधाकृष्णन को 1954 में भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया था। उन्हें नोबेल पुरस्कार के लिए 27 बार नामांकित किया गया था। साहित्य में नोबेल पुरस्कार के लिए 16 बार और नोबेल शांति पुरस्कार के लिए 11 बार नामांकित किया गया था।

नई दिल्ली। हर खास मौके पर गूगल एक अलग अंदाज में डूडल बनाता है। वहीं आज यानि 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के मौके पर गूगल ने एक बहुत ही प्यारा सा डूडल तैयार किया है। गूगल डूडल में आप देख सकते हैं कि एक एनिमेटेड, मुस्कुराते हुए लाल रंग के ऑक्टोपस के टेंपल्स का इस्तेमाल करते हुए कई कार्यों को करते हुए दिखाया गया है। जैसे- प्रयोगों का संचालन करना, जटिल समीकरणों को हल करना, नोट्स लेना और पढ़ना भी शामिल है। बता दें कि, भारत में हर साल पूर्व राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन को उनकी जयंती पर उन्हे श्रद्धांजलि देने और उनकी याद में शिक्षक दिवस मनाया जाता है। डॉ राधाकृष्णन एक दार्शनिक, विद्वान, राजनीतिज्ञ और एक अनुकरणीय शिक्षक थे। वह देश के पहले उपराष्ट्रपति और उसके दूसरे राष्ट्रपति थे। डॉ राधाकृष्णन का जन्म 5 सितंबर, 1888 को तमिलनाडु में हुआ था। वह चेन्नई के प्रेसीडेंसी कॉलेज और कलकत्ता (अब कोलकाता) विश्वविद्यालय में पढ़ाते थे। वह 1931 से 1936 तक आंध्र विश्वविद्यालय के कुलपति रहे और 1962 में, वे देश के राष्ट्रपति बने। जब वे राष्ट्रपति बने, तो उन्होंने अपने शुभचिंतकों को स्पष्ट रूप से बताया कि वे अपना जन्मदिन मनाने के बजाय 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रूप में मनाना चाहते हैं। तब से, उनके जन्मदिन को भारत में शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। डॉ. राधाकृष्णन के राष्ट्रपति बनने पर शिक्षक दिवस मनाने की परंपरा शुरू हुई। डॉ राधाकृष्णन को 1954 में भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया था। उन्हें नोबेल पुरस्कार के लिए 27 बार नामांकित किया गया था। साहित्य में नोबेल पुरस्कार के लिए 16 बार और नोबेल शांति पुरस्कार के लिए 11 बार नामांकित किया गया था।