लूसी विल्स की याद में GOOGLE ने बनाया ये कलरफुल DOODLE

लूसी विल्स की याद में GOOGLE ने बनाया ये कलरफुल DOODLE
लूसी विल्स की याद में GOOGLE ने बनाया ये कलरफुल DOODLE

नई दिल्ली। Google ने आज मशहूर हीमेटॉलजिस्ट Lucy Wills के 131वें जन्मदिन पर खास कलरफुल Doodle बना उन्हे याद किया है। डूडल में गूगल ने लूसी विल्स को लैबरेटरी में काम करते हुए दिखाया है। इसमें लूसी के टेबल पर ब्रेड के कुछ पीस और चाय का कप भी नजर आ रहा है। लूसी को दुनियाभर में prenatal (प्रसवपूर्व) अनीमिया की रोकथाम के लिए किए गए महत्वपूर्ण रिसर्च के लिए जाना जाता है।

Google Dedicated Doodle To Hematologist Lucy Wills On Her 131st Birthday :

जाने लूसी के बारे में कुछ खास बातें

  • लूसी का जन्म साल 1888 में इंग्लैंड में हुआ था।
  • 1911 में लूसी ने कैंब्रिज यूनिवर्सिटी से बॉटनी और जिऑलजी में डिग्री हासिल की।
  • 1914 में विश्व यूद्ध के शुरू होने पर लूसी ने केप टाउन में नर्स के तौर पर अपनी सेवाएं दीं।
  • यहीं से उनका मेडिसिन की तरफ रुझान बढ़ गया।
  • केप टाउन से लंदन वापस आने पर उन्होंने लंदन स्कूल ऑफ मेडिसिन फॉर विमिन से अपनी मेडिकल डिग्री प्राप्त की।
  • साल 1928 में लूसी भारत दौरे पर थीं। यहां वह मुंबई के टेक्सटाइल इंडस्ट्री में काम करने वाली गर्भवती महिलाओं को हो रहे गंभीर अनीमिया की जांच के लिए आई थीं। जांच पर उन्होंने पाया कि इन वर्कर्स को हो रही इस बीमारी के पीछे खराब आहार सबसे बड़ी वजह है। इसी कारण इन महिलाओं मैक्रोसाइटिक अनीमिया जैसी गंभीर बीमारी हो रही है। माइक्रोसाइटिक अनीमिया के कारण गर्भावस्था में रेड ब्लड सेल्स का साइज नॉर्मल से काफी ज्यादा बढ़ जाता है।
  • लूसी विल्स ने इसके बाद अपनी बाकी की जिंदगी यात्रा और गर्भवती महिलाओं की सेहत और आहार के रिसर्च में लगा दी। लूसी का निधन 16 अप्रैल 1964 को हुआ।
नई दिल्ली। Google ने आज मशहूर हीमेटॉलजिस्ट Lucy Wills के 131वें जन्मदिन पर खास कलरफुल Doodle बना उन्हे याद किया है। डूडल में गूगल ने लूसी विल्स को लैबरेटरी में काम करते हुए दिखाया है। इसमें लूसी के टेबल पर ब्रेड के कुछ पीस और चाय का कप भी नजर आ रहा है। लूसी को दुनियाभर में prenatal (प्रसवपूर्व) अनीमिया की रोकथाम के लिए किए गए महत्वपूर्ण रिसर्च के लिए जाना जाता है। जाने लूसी के बारे में कुछ खास बातें
  • लूसी का जन्म साल 1888 में इंग्लैंड में हुआ था।
  • 1911 में लूसी ने कैंब्रिज यूनिवर्सिटी से बॉटनी और जिऑलजी में डिग्री हासिल की।
  • 1914 में विश्व यूद्ध के शुरू होने पर लूसी ने केप टाउन में नर्स के तौर पर अपनी सेवाएं दीं।
  • यहीं से उनका मेडिसिन की तरफ रुझान बढ़ गया।
  • केप टाउन से लंदन वापस आने पर उन्होंने लंदन स्कूल ऑफ मेडिसिन फॉर विमिन से अपनी मेडिकल डिग्री प्राप्त की।
  • साल 1928 में लूसी भारत दौरे पर थीं। यहां वह मुंबई के टेक्सटाइल इंडस्ट्री में काम करने वाली गर्भवती महिलाओं को हो रहे गंभीर अनीमिया की जांच के लिए आई थीं। जांच पर उन्होंने पाया कि इन वर्कर्स को हो रही इस बीमारी के पीछे खराब आहार सबसे बड़ी वजह है। इसी कारण इन महिलाओं मैक्रोसाइटिक अनीमिया जैसी गंभीर बीमारी हो रही है। माइक्रोसाइटिक अनीमिया के कारण गर्भावस्था में रेड ब्लड सेल्स का साइज नॉर्मल से काफी ज्यादा बढ़ जाता है।
  • लूसी विल्स ने इसके बाद अपनी बाकी की जिंदगी यात्रा और गर्भवती महिलाओं की सेहत और आहार के रिसर्च में लगा दी। लूसी का निधन 16 अप्रैल 1964 को हुआ।