‘मल्लिका-ए-गजल’ की जयंती पर Google का खास तोहफा

google
नई दिल्ली। 'मल्लिका-ए-गजल' के नाम से प्रसिद्ध बेगम अख्तर की 103वीं जयंती पर शनिवार को गूगल ने एक विशेष डूडल के जरिए उन्हें याद किया। गजल की मल्लिका की याद में गूगल ने एक खास डूडल तैयार किया। इस खूबसूरत डूडल में बेगम अख्तर सितार बजाती दिख रही हैं। वहीं, उनके कुछ प्रशंसक भी उनके पास बैठे नजर आ रहे हैं। बेगम अख्तर का जन्म 1914 में फैजाबाद में हुआ था। अख्तर का बचपन का नाम अख्तरी बाई फैजाबादी था।…

नई दिल्ली। ‘मल्लिका-ए-गजल’ के नाम से प्रसिद्ध बेगम अख्तर की 103वीं जयंती पर शनिवार को गूगल ने एक विशेष डूडल के जरिए उन्हें याद किया। गजल की मल्लिका की याद में गूगल ने एक खास डूडल तैयार किया। इस खूबसूरत डूडल में बेगम अख्तर सितार बजाती दिख रही हैं। वहीं, उनके कुछ प्रशंसक भी उनके पास बैठे नजर आ रहे हैं।

बेगम अख्तर का जन्म 1914 में फैजाबाद में हुआ था। अख्तर का बचपन का नाम अख्तरी बाई फैजाबादी था। बेगम अख्तर को केवल गजल शैली में ही नहीं, बल्कि दादरा और ठुमरी जैसे भारतीय शास्त्रीय संगीत में भी महारत हासिल थी। अख्तर को भारतीय संगीत में उनके योगदान के लिए पद्मश्री और पद्म भूषण (मरणोपरांत) से सम्मानित किया गया था। उन्हें संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था।

{ यह भी पढ़ें:- जानिए कौन है कमलादेवी चट्टोपाध्याय? जिनके जन्मदिन पर गूगल ने बनाया डूडल }

प्रारंभिक गायिकाओं में शामिल अख्तर को महफिलों या निजी समारोहों में गाने के स्थान पर सार्वजनिक समारोहों में कार्यक्रम पेश करने की शुरुआत करने के लिए जाना जाता है। अख्तर का 30 अक्तूबर, 1974 को निधन हो गया था।

{ यह भी पढ़ें:- Google ने भारत की पहली महिला डॉक्टर आनंदी गोपाल जोशी की डूडल बनाकर दी श्रद्धांजलि }

Loading...