1. हिन्दी समाचार
  2. गूगल ने डूडल बना पंजाबी लेखिका अमृता प्रीतम को किया याद

गूगल ने डूडल बना पंजाबी लेखिका अमृता प्रीतम को किया याद

Google Pais Tribute To Punjabi Writer And Poet Amrita Pritam On Her 11th Birthday

By आस्था सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। गूगल ने पंजाबी लेखिका और कवयित्री अमृता प्रीतम को याद करते हुए आज उनके 100वें जन्मदिन पर खास डूडल बनाया है। ब्रिटिश भारत के गुजरनवाला में जन्मी प्रीतम की कविता ‘आज आंखां वारिस शाह नू’ आज भी काफी मशहूर है। 20वीं सदी की सबसे महान पंजाबी कवयित्री कही जाने वाली अमृता प्रीतम ने 16 साल की उम्र में ही अपनी पहली संग्रह प्रकाशित की थी।

पढ़ें :- सरकारी नौकरी: आर्मी पब्लिक स्कूल ने निकाली 137 टीचर्स की भर्ती, ऐसे करें अप्लाई

बता दें कि अमृता ने अपने जीवन में 28 उपन्यास लिखे, जिनमें पिंजर भी शामिल है। पिंजर में भी भारत-पाकिस्तान बंटवारे की पृष्ठभूमि पर आधारित एक मार्मिक कहानी का चित्रण है, जिस पर 2002 में इसी नाम से एक फिल्म भी बनाई गई। हालांकि 2005 में अमृता प्रीतम का निधन हो गया।

पंजाबी भाषा में अपने साहित्य और दक्षता के लिए जानी जाने वाली अमृता विभाजन के बाद पाकिस्तान चली गईं और वहां उन्होंने हिंदी और उर्दू भाषा में कई किताबें लिखीं। बात करे प्रीतम की आत्मकथा की तो ‘काला गुलाब’, उनकी जिंदगी से जुड़े कई अनोखे अनुभव साझा करता है और दूसरी महिलाओ को भी प्यार और शादी जैसे मामलों में खुलकर अपनी बात रखने के लिए प्रेरित करता है।

पद्म विभूषण और ज्ञानपीठ से हो चुकी हैं सम्मानित

प्रीतम ने ऑल इंडिया रेडियो के लिए भी काम किया और लिटरेरी जर्नल ‘नागमणि’ का संपादन भी किया। प्रीतम के छह दशक लंबे करियर में उन्हें बहुत से अवॉर्ड्स मिले जिनमें 1981 में भारतीय ज्ञानपीठ और 2005 में मिला भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म विभूषण भी शामिल हैं।

पढ़ें :- पति निक से ज्यादा प्रियंका करती हैं इससे प्यार, वायरल हो रही तस्वीरों ने किया खुलासा

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...