उप्र: नोट चलाने को लेकर बवाल, मारपीट में एक दर्जन लोग घायल

रुद्रपुर। कोतवाली थानाक्षेत्र के खोरमा कन्हौली चौराहे पर खाद की दुकान पर एक हजार के नोट चलाने को लेकर विवाद हो गया जिसमें दो गांवों के लोग आपस में भीड़ गये। दोनों पक्षों में हुई मारपीट में एक दर्जन लोग घायल हो गये। दोनों तरफ से लगभग आधे घंटे तक फायरिंग हुई जिससे दादा-पोते को र्छे लगे है। दोनों गांवों में तनाव व्याप्त है। घटना के बाद गांवों के प्राथमिक विद्यालयों में छुट्टी कर दी गई । चौराहे पर रुद्रपुर, गौरीबाजार, बरहज, एकौना थानों की पुलिस के साथ पीएसी ने भी स्थाई कैम्प कर रखा है। मारपीट के दौरान एक पक्ष के लोगों ने चार पहिया गाड़ियों, दो बाइकों, दो दुकानों, दो गुमटियों को बुरी तरह क्षतिग्रस्त कर दिया।



मिली जानकारी के अनुसार कन्हौली निवासी अभय प्रताप सिंह प्रतिदिन की भांति अपने खोरमा चौराहे स्थित सिंह फर्टिलाइजर की दुकान पर बैठे थे। खोरमा निवासी रमेश त्रिपाठी के पौत्र सुबह 10 बजे दुकान पर आकर खाद लेने के बाद एक हजार रुपया दिया। दुकानदार द्वारा रुपया न लेने और 100 के नोट मांगने पर लोगों ने दुकानदार अभय सिंह को पीट दिया। घटना की जानकारी होने पर अभय सिंह के समर्थकों ने आरोपियों के घर पहुंचकर पूछताछ की। इस दौरान हल्की मारपीट के बाद संभ्रांत लोगों की पहल पर दोनों पक्ष अलग हो गये। थोड़ी देर बाद खोरमा निवासी सैकड़ों की संख्या में लोगों ने अभय सिंह की दुकान पर धावा बोल दिया तथा दुकान के सामने खड़ी अभय सिंह के बड़े भाई दिग्विजय प्रताप सिंह की स्कार्पियो, एक आईटेन गाड़ी, एक मारुती कार, एक ट्रैक्टर तथा दो बाइकों को बुरी तरह क्षतिग्रस्त कर दिया।



चौराहे पर चाय की दुकान चलाने वाले शेरबहादुर चौधरी व मोतीलाल की चाय की दुकानों को तोड़ दिया। दोनों तरफ से लगभग आधे घंटे तक फायरिंग हुई। इस दौरान चली गोली से कन्हौली निवासी कुणाल सिंह पुत्र दिग्विजय सिंह के पेट व पैर में र्छे लगे। मारपीट में कन्हौली निवासी अभय प्रताप सिंह, अरुण प्रताप सिंह, विशाल सिंह को गंभीर चोंटे आयी। उनका इलाज जिला अस्पताल देवरिया में चल रहा है। वहीं दूसरे पक्ष के राजेश त्रिपाठी पुत्र हरिनन्दन त्रिपाठी व ग्राम प्रधान पति हरिनन्दन त्रिपाठी पुत्र रामरक्षा, मोहन त्रिपाठी पुत्र हरिनन्दन त्रिपाठी, गोपाल, दिनेश्वर, कृष्ण मोहन को गंभीर चोंटे आयी है।

घटना की सूचना के बाद कोतवाली रुद्रपुर प्रभारी विरेन्द्र बहादुर सिंह, सीओ शशितेष यादव, सीओ बरहज, थानाध्यक्ष एकौना, थानाध्यक्ष गौरीबाजार, कोतवाली प्रभारी बरहज मय फोर्स पहुंच गये और बल प्रयोग कर आधा दर्जन असलहे जब्त कर लिया।