गहने-मंगलसूत्र बेंच बहू ने बनवाया ‘टॉयलेट’, अब महिलाओं को कर रही जागरूक

gorakhpur

गोरखपुर। यूपी के गोरखपुर जनपद में एक महिला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत अभियान को साकार करने के लिये एक अनोखी पहल की है। यहां के बूढ़ाडीह गांव की रहने वाली सविता ने शौचालय बनवाने के लिये अपना मंगलसूत्र व गहने बेंच दिये। सविता को इस काम के लिये पहले काफी विरोध झेलना पड़ा, लेकिन बाद में उसकी इस पहल काफी सराहना हुई। अब सविता गांव में महिलाओं की टोली बनाकर लोगों को शौचालय बनाने को लेकर जागरूक कर रही हैं।
बिहार के पटना की रहने वाली सविता की शादी साल 2011 बूढ़ाडीह गांव के वीरेंद्र मौर्य से शादी हुई थी। शादी के बाद वीरेंद्र सविता को लेकर शिमला कमाने चला गया। करीब 8 माह बाद जब सविता अपने पति के साथ बूढ़ाडीह गांव पहुंची, तो वहां बाहर शौंच जाने की बात जानकार हैरान रह गयी। सविता ने घर में शौचालय बनाने की ठान ली। इसके लिये सविता ने अपना मंगलसूत्र-गहने बेच डाले। ससुराल वालों ने पहले सविता एक इस कदम का भारी विरोध किया।

Gorakhpur Women Sold Mangalsutra For Making Toilet :

सविता ने बताया, पहले तो गांव के पुरुष और महिलाओं के भी विरोध का उन्‍हें सामना करना पड़ा। उन्‍होंने ठान लिया कि वह महिलाओं को घर से निकलकर बाहर शौच के लिए नहीं जाने देंगी। सविता ने अपने घर में शौचालय बनवाने के बाद गांव की महिलाओं को उनके सम्‍मान के बारे में जागरूक करना शुरू किया तो गांव की महिलाएं भी उनके साथ इस मुहिम में जुट गई।

अब गांव की तस्‍वीर बदल गई है। ऐसे में सविता लोगों के लिए नजीर बन गई हैं।

गोरखपुर। यूपी के गोरखपुर जनपद में एक महिला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत अभियान को साकार करने के लिये एक अनोखी पहल की है। यहां के बूढ़ाडीह गांव की रहने वाली सविता ने शौचालय बनवाने के लिये अपना मंगलसूत्र व गहने बेंच दिये। सविता को इस काम के लिये पहले काफी विरोध झेलना पड़ा, लेकिन बाद में उसकी इस पहल काफी सराहना हुई। अब सविता गांव में महिलाओं की टोली बनाकर लोगों को शौचालय बनाने को लेकर जागरूक कर रही हैं। बिहार के पटना की रहने वाली सविता की शादी साल 2011 बूढ़ाडीह गांव के वीरेंद्र मौर्य से शादी हुई थी। शादी के बाद वीरेंद्र सविता को लेकर शिमला कमाने चला गया। करीब 8 माह बाद जब सविता अपने पति के साथ बूढ़ाडीह गांव पहुंची, तो वहां बाहर शौंच जाने की बात जानकार हैरान रह गयी। सविता ने घर में शौचालय बनाने की ठान ली। इसके लिये सविता ने अपना मंगलसूत्र-गहने बेच डाले। ससुराल वालों ने पहले सविता एक इस कदम का भारी विरोध किया।सविता ने बताया, पहले तो गांव के पुरुष और महिलाओं के भी विरोध का उन्‍हें सामना करना पड़ा। उन्‍होंने ठान लिया कि वह महिलाओं को घर से निकलकर बाहर शौच के लिए नहीं जाने देंगी। सविता ने अपने घर में शौचालय बनवाने के बाद गांव की महिलाओं को उनके सम्‍मान के बारे में जागरूक करना शुरू किया तो गांव की महिलाएं भी उनके साथ इस मुहिम में जुट गई।अब गांव की तस्‍वीर बदल गई है। ऐसे में सविता लोगों के लिए नजीर बन गई हैं।