‘पाकिस्तान नेशनल डे’ का बहिष्कार करेगा भारत

modi
'पाकिस्तान नेशनल डे' का बहिष्कार करेगा भारत

ई दिल्ली। सरकार ने पाकिस्तान के राष्ट्रीय दिवस के अवसर पर दिल्ली उच्चायोग में होने वाले कार्यक्रम का बहिष्कार करने का फैसला लिया है।  सरकार के अधिकारी ने कहा कि भारत 23 मार्च को आयोजित होने जा रहे ‘पाकिस्तान नेशनल डे’ का बहिष्कार करेगा।

Gov Decided Not To Send Official Representative To The Pakistan National Day Event :

आधिकारिक फैसले में कहा गया है कि पाकिस्तान द्वारा जम्मू-कश्मीर के अलगाववादी नेताओं को भी इस कार्यक्रम में आमंत्रित किया गया है, जिस वजह से हमने इसका बहिष्कार किया।

एक दिन पहले हो रहा आयोजन

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक- पाकिस्तानी उच्चायोग ने इस साल एक दिन पहले ही (22 मार्च) राष्ट्रीय दिवस मनाने का का फैसला लिया है। हर साल 23 मार्च को यह आयोजन होता था। भारत की ओर से आमतौर पर कोई मंत्री इस कार्यक्रम में शामिल होता है।

एनडीए सरकार 5 साल से पाक उच्चायोग के हुर्रियत नेताओं से रिश्तों पर आपत्ति जताती रही है। लेकिन, पहली बार पाक के राष्ट्रीय दिवस कार्यक्रम में शामिल नहीं होने का फैसला लिया है। पिछले महीने पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद से भारत ने पाकिस्तान के खिलाफ सख्त रुख अपना रखा है।

बता दें कि भारत ने स्पष्ट तौर पर पाकिस्तान को यह संदेश पुलवामा अटैक के बाद दिया है कि आतंकवाद के साथ बातचीत नहीं हो सकती है। भारत के साथ वैश्विक दबाव के सामने पाकिस्तान की इमरान खान सरकार ने आतंकियों के खिलाफ सख्त ऐक्शन लिए हैं।

ई दिल्ली। सरकार ने पाकिस्तान के राष्ट्रीय दिवस के अवसर पर दिल्ली उच्चायोग में होने वाले कार्यक्रम का बहिष्कार करने का फैसला लिया है।  सरकार के अधिकारी ने कहा कि भारत 23 मार्च को आयोजित होने जा रहे 'पाकिस्तान नेशनल डे' का बहिष्कार करेगा।

आधिकारिक फैसले में कहा गया है कि पाकिस्तान द्वारा जम्मू-कश्मीर के अलगाववादी नेताओं को भी इस कार्यक्रम में आमंत्रित किया गया है, जिस वजह से हमने इसका बहिष्कार किया।

एक दिन पहले हो रहा आयोजन

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक- पाकिस्तानी उच्चायोग ने इस साल एक दिन पहले ही (22 मार्च) राष्ट्रीय दिवस मनाने का का फैसला लिया है। हर साल 23 मार्च को यह आयोजन होता था। भारत की ओर से आमतौर पर कोई मंत्री इस कार्यक्रम में शामिल होता है।

एनडीए सरकार 5 साल से पाक उच्चायोग के हुर्रियत नेताओं से रिश्तों पर आपत्ति जताती रही है। लेकिन, पहली बार पाक के राष्ट्रीय दिवस कार्यक्रम में शामिल नहीं होने का फैसला लिया है। पिछले महीने पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद से भारत ने पाकिस्तान के खिलाफ सख्त रुख अपना रखा है।

बता दें कि भारत ने स्पष्ट तौर पर पाकिस्तान को यह संदेश पुलवामा अटैक के बाद दिया है कि आतंकवाद के साथ बातचीत नहीं हो सकती है। भारत के साथ वैश्विक दबाव के सामने पाकिस्तान की इमरान खान सरकार ने आतंकियों के खिलाफ सख्त ऐक्शन लिए हैं।