उमर खालिद, जिग्नेश मेवानी पर हिंसा भड़काने का आरोप, मुकदमा दर्ज

umar-khalid

नई दिल्ली। गुजरात दलित विधायक जिग्नेश मेवानी और जेएनयू छात्र नेता उमर खालिद की उपस्थिति में होने वाले सम्मेलन की इजाजत पुलिस द्वारा अचानक नामंजूर किए जाने के बाद गुरुवार को सरकारी विरोधी नारे लगे और विरोध प्रदर्शन भी हुए। मुंबई पुलिस के एक प्रवक्ता ने इसकी जानकारी दी। सम्मेलन की इजाजत नमंजूर करने की पुष्टि करते हुए मुंबई पुलिस के प्रवक्ता ने कहा कि विले पार्ले में निर्धारित छात्र भारती के अखिल भारतीय राष्ट्रीय छात्र सम्मेलन की इजाजत को नामंजूर कर दिया गया है। हालांकि, उन्होंने इसको नमंजूर करने के कारणों को नहीं बताया।

आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि वामपंथी उन्मुख छात्र इकाई सम्मेलन को मंजूरी नहीं देने का कदम महाराष्ट्र के अन्य हिस्सों और मुंबई में बुधवार को बंद के दौरान निषेधात्मक आदेश के मद्देनजर उठाया गया है। बंद के दौरान नांदेड़ में एक युवक की मौत हो गई और कई लोग घायल हो गए थे। पुलिस के कदम का विरोध कर रहे छात्र भारती के सदस्यों ने आयोजन स्थल भाईदास हॉल के बाहर बैठने का प्रयास किया और कई सदस्य बाहर के मुख्य मार्गो पर भागते हुए दिखाई दिए।  इसके साथ ही कुछ सदस्यों ने प्रेक्षागृह में घुसने का प्रयास किया, लेकिन पुलिस द्वारा उन्हें बाहर खदेड़ दिया गया और कुछ को हिरासत में लेकर पुलिस की गाड़ी में डाल दिया गया।

{ यह भी पढ़ें:- 22 साल बाद कांग्रेस तीन नौजवानों के साथ जीतेगी चुनाव....? }

छात्र भारती के उपाध्यक्ष सागर भालेराव ने कहा कि दिन भर चलने वाले सम्मेलन की योजना बहुत दिनों पहले बनाई गई थी, जहां मेवानी, खालिद और दूसरे प्रसिद्ध हस्तियों को भाषण के लिए आमंत्रित किया गया था। उन्होंने आरोप लगाया कि छात्रों द्वारा असहज सवाल उठाने पर पुलिस ने सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी-शिवसेना सरकार के कहने पर राज्य में छात्रों की आवाज को दबाने के लिए यह कार्रवाई की है। हालांकि, वे अपने संघर्ष को जारी रखेंगे।

पुलिस ने दर्ज की एफ़आईआर-

{ यह भी पढ़ें:- सहवाग बीसीसीआई का प्रतिनिधित्व करते हैं, भारत का नहीं: उमर खालिद }

महाराष्ट्र पुलिस ने इस मामले में गुजरात के दलित विधायक जिग्नेश मेवाणी और जेएनयू के छात्रनेता उमर खालिद के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। दोनों पर हिंसा को भड़काने का आरोप लगाया गया है। पुणे के विश्रामबाग पुलिस स्टेशन में आईपीसी की धारा 153 ए, 505 और 117 के तहत यह केस दर्ज किया गया है।

नई दिल्ली। गुजरात दलित विधायक जिग्नेश मेवानी और जेएनयू छात्र नेता उमर खालिद की उपस्थिति में होने वाले सम्मेलन की इजाजत पुलिस द्वारा अचानक नामंजूर किए जाने के बाद गुरुवार को सरकारी विरोधी नारे लगे और विरोध प्रदर्शन भी हुए। मुंबई पुलिस के एक प्रवक्ता ने इसकी जानकारी दी। सम्मेलन की इजाजत नमंजूर करने की पुष्टि करते हुए मुंबई पुलिस के प्रवक्ता ने कहा कि विले पार्ले में निर्धारित छात्र भारती के अखिल भारतीय राष्ट्रीय छात्र सम्मेलन की इजाजत को नामंजूर…
Loading...