1. हिन्दी समाचार
  2. खेल
  3. Tokyo Olympic: वह सुबह कभी तो आयेगी, जब सरकारी अव्यवस्था निशानेबाज मनु भाकर जैसों की पदक की राह में रोड़ा ना बन पायेगी

Tokyo Olympic: वह सुबह कभी तो आयेगी, जब सरकारी अव्यवस्था निशानेबाज मनु भाकर जैसों की पदक की राह में रोड़ा ना बन पायेगी

टोक्यो में चल रहे खेलों के महाकुंभ ओलंपिक में कुछ दिन पहले ही भारत ने अपने पदक का खाता खोला है। समस्त देशवासियों को गौरवान्वित होने का मौका दिया देश की बेटी मीराबाई चानू ने। मीरा ने भारात्तोलन के 49 किग्रा वर्ग में भारत के लिए रजत पदक जीता। इस मुकाबले के अगले ही दिन भारत की एक बेटी की जीत के कारण कल तक खुशी मना रही देश की जनता एक बेटी की हार का गम भी मनाने लगी। ये गम और भी बड़े गम में उस वक्त तब्दील हो गया जब इस हार का कारण सरकारी अव्यवस्था मालूम पड़ी।

By प्रिन्स राज 
Updated Date

नई दिल्ली। टोक्यो में चल रहे खेलों के महाकुंभ ओलंपिक( Tokyo Olympics) में कुछ दिन पहले ही भारत ने अपने पदक का खाता खोला है। समस्त देशवासियों को गौरवान्वित होने का मौका दिया देश की बेटी मीराबाई चानू (Mirabai Chanu) ने। मीरा ने भारात्तोलन के 49 किग्रा वर्ग में भारत के लिए रजत पदक जीता। इस मुकाबले के अगले ही दिन भारत की एक बेटी की जीत के कारण कल तक खुशी मना रही देश की जनता एक बेटी की हार का गम भी मनाने लगी। ये गम और भी बड़े गम में उस वक्त तब्दील हो गया जब इस हार का कारण सरकारी अव्यवस्था (Government disorder) मालूम पड़ी। दरअसल, मनु भाकर की हार की प्रमुख वजह रही उनकी निशानेबाजी के दौरान उनको भारत सरकार के द्वारा मुहैया कराई गयी पिस्टल।

पढ़ें :- Tokyo Olympic: देश की ये दो बेटियां जो नहीं लगा पाईं मेडल पर निशाना, पिस्टल में आई तकनीकी खराबी बनी राह में रोड़ा
Jai Ho India App Panchang

मनु भाकर के करोड़ो लोगो के साथ साथ अपना सपना पूरा करने और एयर पिस्टल निशानेबाजी(Air pistol shooting) के खेल में शानदार प्रदर्शन करने टोक्यो पहुंची। लेकिन उनको क्या मालूम था की उनके सपनो की राह में रोड़ा उनकी स्वंय की पिस्टल ही बन जायेगी। 25 जूलाई के दिन वो अपने पहले मुकाबले में ही टॉप आठ में जगह नहीं बना पाईं। 10मीटर एयर पिस्टल स्पर्धा में निशाना लगा रही मनु को देखकर ये लगा की वो आगे के टॉप आठ की रैकिंग में जगह बना लेंगी लेकिन ऐन मौके पर उनकी पिस्टल धोखा दे गई। पिस्टल में आई तकनीकी खराबी (Technical fault) के कारण वो अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाईं।

इस तरह दुनिया के दूसरे नंबर(World number two shooter) की निशानेबाज मनु को 12वें स्थान से संतुष्ट हो आगे की प्रतिस्पर्धा से बाहर होना पड़ा। इस मुकाबले के बाद एक बड़ा सवाल हमारे देश की सरकार और देश के लोगो के सामने है। आखिर कब सरकार का ध्यान इस तरफ जायेगा। कब सरकार इन खेलों को लेकर के सीरियस होगी। कब तक सरकारी अव्यवस्था के कारण हमारे खिलाड़ियों (Government of our country) का सपना धरा का धरा रह जायेगा। अगर सरकार ने सही समय से मनु को अच्छी पिस्टल मुहैया कराने पर उसकी अच्छे से जांच कर टोक्यो साथ भेजने पर ध्यान दी होती तो आज भारत के पदकों की संख्या में एक पदक की और वृद्धि हो सकती थी। ये सवाल ना जानें कब तक सामने आता रहेगा ना जानें कब तक इस देश के बेटों और बेंटियों का सपना चकनाचूर होता रहेगा।

 

 

पढ़ें :- Tokyo Olympic: भारत का खुला खाता, मीराबाई चानू ने वेटलिफ्टिंग में देश को दिलाया पहला पदक

 

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...