योगीराज में लालची डॉक्टरों का कारनामा, पैसे ना होने पर छीन ली मासूम की सांसे

banda news
बांदा
लखनऊ। उत्तर प्रदेश का स्वास्थ्य महकमा एक बार फिर अपनी करतूतों की वजह से चर्चा में है। बांदा जिले में जिला अस्पताल के डॉक्टरों ने पैसों के लालच में मासूम की सांसे छीन ली। मृतक मासूम का भाई शव लेकर जिलाधिकारी कार्यालय पर न्याय की गुहार लगाने पहुंचा, जिसके बाद आनन-फानन में सिटी मजिस्ट्रेट समेत दो सदस्यीय कमेटी गठित कर जांच के निर्देश दिये गए। प्राप्त जानकारी के मुताबिक, बांदा जिले के शहर कोतवाली क्षेत्र के पचेहरी गांव के रहने…

लखनऊ। उत्तर प्रदेश का स्वास्थ्य महकमा एक बार फिर अपनी करतूतों की वजह से चर्चा में है। बांदा जिले में जिला अस्पताल के डॉक्टरों ने पैसों के लालच में मासूम की सांसे छीन ली। मृतक मासूम का भाई शव लेकर जिलाधिकारी कार्यालय पर न्याय की गुहार लगाने पहुंचा, जिसके बाद आनन-फानन में सिटी मजिस्ट्रेट समेत दो सदस्यीय कमेटी गठित कर जांच के निर्देश दिये गए।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक, बांदा जिले के शहर कोतवाली क्षेत्र के पचेहरी गांव के रहने वाले पुष्पराज सिंह बुखार से पीड़ित अपने छह वर्षीय भाई को लेकर मेडिकल कॉलेज बांदा पहुंचे थे, जहां स्टाफ द्वारा पैसों की मांग की गई। परिजनों का आरोप है कि गरीबी के चलते वह पैसा नहीं चुका पाये, जिसके चलते इलाज नहीं किया गया। भर्ती करने के बावजूद डॉक्टरों ने इलाज शुरू नहीं किया।

{ यह भी पढ़ें:- बांदा: पूर्व डीजीपी के चाचा के घर डकैतों का धावा, बुजुर्ग को किया अधमरा }

मासूम की हालत बिगड़ने पर उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया, जहां उसकी मौत हो गई। मृतक के भाई राम सिंह का आरोप है कि इलाज के लिए वो अपने भाई को गोद में लिए डॉक्टरों से गुहार लगाता रहा, लेकिन किसी ने भी उसका इलाज शुरू नहीं किया, जिससे उसकी मौत हो गयी। मासूम की मौत के बाद भाई पुष्पराज शव लेकर कलेक्ट्रेट पहुंचे और डीएम दिव्य प्रकाश गिरी को अपनी फरियाद सुनाई।

डीएम ने मामले को गंभीरता से लेते हुए कार्रवाई का आदेश दिया, लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। डीएम दिव्य प्रकाश गिरी ने कहा कि मामले में जांच के लिए कमेठी बना दी गई है और जांच के निर्देश दिए गए हैं।

{ यह भी पढ़ें:- भाजपा विधायक के खिलाफ लामबंद हुए जल निगम के अभियंता }

Loading...