दिवालिया हो रही है सरकार, पाक-चीन की बातें छोड़ अब देश के बारे में सोचे : यशंवत सिन्हा

yashwant sinha
दिवालिया हो रही है सरकार, पाक-चीन की बातें छोड़ अब देश के बारे में सोचें : यशंवत सिन्हा

कानपुर। देश की बिगड़ती अर्थव्यवस्था को लेकर एक बार फिर पूर्व वित्तमंत्री यशवंत सिन्हा ने चिंता जताई है। इसको लेकर उन्होंने केंद्र की मोदी सरकार को सलाह दी है। उन्होंने कहा कि सरकार दिवालिया हो रही है, अब बीजेपी सरकार को पाकिस्तान और चीन की बातें करना छोड़ना होगा और देश के बारे में सोचना होगा।

Government Is Going Bankrupt Leave Talk Of Pak China Now Think About The Country Yashwant Sinha :

पत्रकारों से बातचीत में यशवंत सिन्हा ने सीएए पर कहा कि यूपी सरकार को विरोध रोकने के लिए हिंसा नहीं बल्कि बातचीत का रास्ता अपनाना चाहिए। लेकिन यूपी सरकार ठीक उसी तरह से लोगों को दबाने का प्रयास कर रही है, जिस तरह से अंग्रेजों ने महात्मा गांधी के आंदोलन को दबाया था।

उन्होंने कहा कि सरकार झूठ व हिंसा पर नहीं चलती है। पहले अटलजी की बीजेपी और मौजूदा समय की बीजेपी में दिन और रात जैसा अंतर आ गया है। पूर्व मंत्री ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार को पाकिस्तान और चीन के बारे में बात न करके अब देश के बारे में सोचे। उन्होंने कहा कि सरकार दिवालिया हो गई है और अर्थ व्यवस्था चौपट हो चुकी है।

अब वित्त मंत्री को फैसला लेने की आजादी नहीं है, वित्त से जुड़ी बैठक में वित्त मंत्री जाती नहीं है। अब इस जगह मैं होता तो कब का इस्तीफ दे देता। बता दें कि, मुंबई से गांधी शांति संदेश यात्रा लेकर मंगलवार को वह कानपुर पहुंचे। यहां पर सपा कार्यकताओं ने उनका स्वागत किया और शांति संदेश तक पहुंचने के लिए समर्थन किया।

कानपुर। देश की बिगड़ती अर्थव्यवस्था को लेकर एक बार फिर पूर्व वित्तमंत्री यशवंत सिन्हा ने चिंता जताई है। इसको लेकर उन्होंने केंद्र की मोदी सरकार को सलाह दी है। उन्होंने कहा कि सरकार दिवालिया हो रही है, अब बीजेपी सरकार को पाकिस्तान और चीन की बातें करना छोड़ना होगा और देश के बारे में सोचना होगा। पत्रकारों से बातचीत में यशवंत सिन्हा ने सीएए पर कहा कि यूपी सरकार को विरोध रोकने के लिए हिंसा नहीं बल्कि बातचीत का रास्ता अपनाना चाहिए। लेकिन यूपी सरकार ठीक उसी तरह से लोगों को दबाने का प्रयास कर रही है, जिस तरह से अंग्रेजों ने महात्मा गांधी के आंदोलन को दबाया था। उन्होंने कहा कि सरकार झूठ व हिंसा पर नहीं चलती है। पहले अटलजी की बीजेपी और मौजूदा समय की बीजेपी में दिन और रात जैसा अंतर आ गया है। पूर्व मंत्री ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार को पाकिस्तान और चीन के बारे में बात न करके अब देश के बारे में सोचे। उन्होंने कहा कि सरकार दिवालिया हो गई है और अर्थ व्यवस्था चौपट हो चुकी है। अब वित्त मंत्री को फैसला लेने की आजादी नहीं है, वित्त से जुड़ी बैठक में वित्त मंत्री जाती नहीं है। अब इस जगह मैं होता तो कब का इस्तीफ दे देता। बता दें कि, मुंबई से गांधी शांति संदेश यात्रा लेकर मंगलवार को वह कानपुर पहुंचे। यहां पर सपा कार्यकताओं ने उनका स्वागत किया और शांति संदेश तक पहुंचने के लिए समर्थन किया।