नेफ्यू रियो बने नागालैंड के मुख्‍यमंत्री, पहली बार राजभवन से बाहर हुई शपथ

नेफ्यू रियो बने नागालैंड के मुख्‍यमंत्री, पहली बार राजभवन से बाहर हुई शपथ
नेफ्यू रियो बने नागालैंड के मुख्‍यमंत्री, पहली बार राजभवन से बाहर हुई शपथ

नई दिल्ली। नागालैंड के राज्यपाल पीबी आचार्य ने एनडीपीपी के वरिष्ठ नेता नेफ्यू रियो को प्रदेश के मुख्‍यमंत्री पद की शपथ दिलाई। नागालैंड में एनडीपीपी ने बीजेपी के समर्थन से सरकार बनाई है।  रियो राजभवन के बाहर पहली बार मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने वाले पहले मुख्यमंत्री बने। शपथग्रहण समारोह में उत्तर-पूर्वी राज्य मणिपुर सीएम एन बीरेन सिंह, अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री प्रेमा खांडू, असम के सीएम सर्बानंद सोनोवाल और मेघालय के सीएम कोनराड संगमा शामिल हुए।

Government Neiphiu Rio Bjp Alliance Oath :

सीएम रियो को 16 मार्च तक या इससे पहले सदन में बहुमत साबित करने होगा । रियो के पास भाजपा के 12 विधायकों के, एक जदयू और एक निर्दलीय विधायक का समर्थन हासिल है । साथ में एनडीपीपी के 18 विधायक हैं । इससे पहले केंद्रीय मंत्री जगत प्रकाश नड्डा ने भाजपा के महासचिव अरूण सिंह और भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विसासोली लहोनगु के साथ राज्यपाल से मिलकर रियो का समर्थन करने वाला एक पत्र दिया था । जिस पर भाजपा के 12 विधायकों के हस्ताक्षर थे. भाजपा नेताओं ने राज्यपाल को सूचित किया कि वाई पट्टन को विधानसभा में भाजपा के विधायक दल का नेता चुना गया है ।

कोहिमा में हुए शपथ- ग्रहण समारोह का स्थल काफी खास है कि एक दिसंबर, 1963 को यहीं से तत्कालीन राष्ट्रपति सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने नगालैंड राज्य के गठन की घोषणा की थी। नेशनल डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी( एनडीपीपी) हाल ही में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव के बाद बीजेपी के साथ मिलकर इस पूर्वोत्तर राज्य की सत्ता संभाल चुकी है। गठबंधन ने एनडीपीपी के वरिष्ठ नेता नेफ्यू रियो को मुख्यमंत्री चुना है।

नई दिल्ली। नागालैंड के राज्यपाल पीबी आचार्य ने एनडीपीपी के वरिष्ठ नेता नेफ्यू रियो को प्रदेश के मुख्‍यमंत्री पद की शपथ दिलाई। नागालैंड में एनडीपीपी ने बीजेपी के समर्थन से सरकार बनाई है।  रियो राजभवन के बाहर पहली बार मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने वाले पहले मुख्यमंत्री बने। शपथग्रहण समारोह में उत्तर-पूर्वी राज्य मणिपुर सीएम एन बीरेन सिंह, अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री प्रेमा खांडू, असम के सीएम सर्बानंद सोनोवाल और मेघालय के सीएम कोनराड संगमा शामिल हुए।सीएम रियो को 16 मार्च तक या इससे पहले सदन में बहुमत साबित करने होगा । रियो के पास भाजपा के 12 विधायकों के, एक जदयू और एक निर्दलीय विधायक का समर्थन हासिल है । साथ में एनडीपीपी के 18 विधायक हैं । इससे पहले केंद्रीय मंत्री जगत प्रकाश नड्डा ने भाजपा के महासचिव अरूण सिंह और भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विसासोली लहोनगु के साथ राज्यपाल से मिलकर रियो का समर्थन करने वाला एक पत्र दिया था । जिस पर भाजपा के 12 विधायकों के हस्ताक्षर थे. भाजपा नेताओं ने राज्यपाल को सूचित किया कि वाई पट्टन को विधानसभा में भाजपा के विधायक दल का नेता चुना गया है ।कोहिमा में हुए शपथ- ग्रहण समारोह का स्थल काफी खास है कि एक दिसंबर, 1963 को यहीं से तत्कालीन राष्ट्रपति सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने नगालैंड राज्य के गठन की घोषणा की थी। नेशनल डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी( एनडीपीपी) हाल ही में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव के बाद बीजेपी के साथ मिलकर इस पूर्वोत्तर राज्य की सत्ता संभाल चुकी है। गठबंधन ने एनडीपीपी के वरिष्ठ नेता नेफ्यू रियो को मुख्यमंत्री चुना है।