1. हिन्दी समाचार
  2. MP में शराब की बोतलों के साथ सरकारी अफसरों की ‘सेल्फी’ सोशल मीडिया पर वायरल, हुए सस्पेंड

MP में शराब की बोतलों के साथ सरकारी अफसरों की ‘सेल्फी’ सोशल मीडिया पर वायरल, हुए सस्पेंड

Government Officials Selfie With Bottles Of Liquor In Mp Viral On Social Media Suspended

By रवि तिवारी 
Updated Date

नई दिल्ली। मध्य प्रदेश के रायसेन (Raisen) जिले में एक बड़ी खबर सामने आई है। जानकारी के मुताबिक, रायसेन जिले में 3 राजस्व विभाग के अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया है। कहा  जा रहा है कि तीनों ने हाथ में महंगी शराब की बोतलें लेकर सोशल मीडिया (Social Media) पर एक तस्वीर वायरल की थी। वायरल तस्वीर में देखा जा सकता है कि उनके पास बहुत सी शराब की बोतलें हैं।

पढ़ें :- सीएम योगी ने पीड़िता के पिता से की बात, आर्थिक मदद के साथ परिवार के सदस्य को नौकरी और घर देने का ऐलान

बरेली उप मंडल मजिस्ट्रेट (एसडीएम) बृजेन्द्र रावत ने शनिवार को बताया कि अधिकारियों की पहचान अजय धाकड़, धर्मेंद्र मेहरा और दयाराम अरमा के रूप में की गई है। शराब की बोतलों के साथ इन लोगों की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद उन्हें निलंबित कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि इससे सरकार की छवि धूमिल होती है।

बता दें कि पूरे देश कोरोना वायरस का प्रकोप है। इसके चलते 3 मई तक लॉकडाउन घोषित है। खासकर मध्य प्रदेश में कोरोना का संक्रमण अब बड़े शहरों से छोटे शहरों की तरफ बढ़ रहा है। प्रदेश में कोरोना संक्रमण प्रभावित जिलों की संख्या बढ़कर 25 हो गई है, लेकिन भोपाल (Bhopal) और इंदौर (Indore) का आंकड़ा सबसे ज्यादा है। प्रदेश के कुल कोरोना संक्रमित मरीजों का 82 फ़ीसदी मरीज भोपाल और इंदौर से है। प्रदेश के पश्चिमी हिस्से वाले जिलों में कुल 97 फ़ीसदी कोरोना संक्रमित मरीज हैं।

6 जिलों में एक सप्ताह से कोरोना का कोई नया केस नहीं

प्रदेश के लिए थोड़ी राहत भरी खबर यह जरूर है कि बीते 1 हफ्ते में 6 जिले में कोई नया कोरोना का पॉजिटिव केस दर्ज नहीं हुआ है। सरकार का फोकस भोपाल और इंदौर पर सबसे ज्यादा है, क्योंकि इन्हीं दो शहरों में कोरोना वायरस के सबसे ज्यादा मामले हैं। इंदौर के बाद भोपाल कोरोना संक्रमितो का हॉटस्पॉट बना है और अब सरकार इन दो शहरों पर सबसे ज्यादा फोकस कर रही है। राज्य सरकार के जारी आंकड़ों के मुताबिक प्रदेश के अस्पतालों में कोरोना संक्रमित भर्ती संख्या 1700 के करीब हैं। 

पढ़ें :- महिला सुरक्षा को लेकर सड़क से संसद तक हंगामा करने वाले आखिर हाथरस केस पर क्यों हैं मौन?

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...