अब जल्द ही आधार से लिंक होगा ड्राइविंग लाइसेन्स

अब जल्द ही आधार से लिंक होगा ड्राइविंग लाइसेन्स
अब जल्द ही आधार से लिंक होगा ड्राइविंग लाइसेन्स

नई दिल्ली। बैंक अकाउंट और मोबाइल नंबर को आधार से लिंक कराने के बाद अब ड्राइविंग लाइसेंस को भी आधार से जोड़ने की तैयारी चल रही है। आइटी एवं कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया कि ड्राइविंग लाइसेंस को आधार से जोड़ने की प्रक्रिया तेज करने के बारे में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से वह बातचीत कर रहे हैं। प्रसाद ने एनएसई टेक कॉनक्लेव 2018 को संबोधित करते हुए कहा, ‘मैं नितिन गडकरी जी से बात कर रहा हूं, जिससे मोटर वाहन ड्राइविंग लाइसेंस को आधार से जोड़ा जा सके।’ प्रसाद ने कहा कि यह कदम जनता के हित में होगा।

Government Planning To Link Driving Licence To Aadhaar :

प्रसाद ने कहा, ‘मैं नितिन गडकरी जी से सभी मोटर वाहन ड्राइविंग लाइसेंस को जोड़ने के बारे में बातचीत कर रहा हूं।’ उन्होंने कहा कि यह कदम लोगों की सुरक्षा और सार्वजनिक हित में है। इस दिशा में कुछ राज्यों में पहल जारी है।

केंद्रीय मंत्री ने कहा, ‘किसी राज्य का ड्राइवर शराब के नशे में दूसरे राज्य में वाहन चला रहा होता है। हिट एंड रन हो जाता है तो वह ड्राइवर दूसरे राज्य से ड्राइविंग लाइसेंस ले लेता है। अब जब वह ऐसा करेगा तो अपना नाम बदल लेगा लेकिन अपनी डिजिटल पहचान नहीं बदल सकेगा। हमलोग इसे तेजी से कर रहे हैं।’

नई दिल्ली। बैंक अकाउंट और मोबाइल नंबर को आधार से लिंक कराने के बाद अब ड्राइविंग लाइसेंस को भी आधार से जोड़ने की तैयारी चल रही है। आइटी एवं कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया कि ड्राइविंग लाइसेंस को आधार से जोड़ने की प्रक्रिया तेज करने के बारे में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से वह बातचीत कर रहे हैं। प्रसाद ने एनएसई टेक कॉनक्लेव 2018 को संबोधित करते हुए कहा, ‘मैं नितिन गडकरी जी से बात कर रहा हूं, जिससे मोटर वाहन ड्राइविंग लाइसेंस को आधार से जोड़ा जा सके।’ प्रसाद ने कहा कि यह कदम जनता के हित में होगा।प्रसाद ने कहा, 'मैं नितिन गडकरी जी से सभी मोटर वाहन ड्राइविंग लाइसेंस को जोड़ने के बारे में बातचीत कर रहा हूं।' उन्होंने कहा कि यह कदम लोगों की सुरक्षा और सार्वजनिक हित में है। इस दिशा में कुछ राज्यों में पहल जारी है।केंद्रीय मंत्री ने कहा, 'किसी राज्य का ड्राइवर शराब के नशे में दूसरे राज्य में वाहन चला रहा होता है। हिट एंड रन हो जाता है तो वह ड्राइवर दूसरे राज्य से ड्राइविंग लाइसेंस ले लेता है। अब जब वह ऐसा करेगा तो अपना नाम बदल लेगा लेकिन अपनी डिजिटल पहचान नहीं बदल सकेगा। हमलोग इसे तेजी से कर रहे हैं।'