कोरोना संकट में नौकरी गंवाने वाले कामगारों को इतने रुपये देगी सरकार, जाने नियम..

    youth
    कोरोना संकट में नौकरी गंवाने वाले कामगारों को इतने रुपये देगी सरकार, जाने नियम..

    नई दिल्ली। कोरोना संकट के समय बेरोजगार हुए औद्योगिक कामगारों को सरकार की तरफ से राहत दी गई है। ऐसे कर्मचारियों को उनके पिछले तीन महीने के वेतन के औसत के करीब 50 फीसदी तक की रकम बेरोजगारी हितलाभ के रूप में सरकार देगी। सरकार के इस कदम से करीब 40 लाख कामगारों को फायदा पहुंचेगा।

    Government Will Give So Much Money To Workers Who Lost Jobs In Corona Crisis Know The Rules :

    बताया जा रहा है कि सरकार इस नियम के तहत कोरोना संकट में नौकरी गंवा चुके औद्योगिक कामगारों को उनके तीन महीने के वेतन का 50 फीसदी तक बेरोजगारी हितलाभ के तौर पर देगी। हालांकि, सरकार के इस फैसले से सिर्फ उन कामगारों को लाभ पहुंचेगा जिनकी 24 मार्च से 31 दिसंबर 2020 के बीच अपनी नौकरी गंवाई है।

    गौरतलब है कि कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ईएसआईसी) की बैठक में यह प्रस्ताव रखा गया था। ईएसआईसी श्रम मंत्रालय के तहत आने वाला एक संगठन है जो कर्मचारियों को ईएसआई योजना के तहत 21,00 रुपये का बीमा मुहैया कराता है। इस योजना का फायदा केवल उन्हीं कामगारों को मिलेगा जो ईएसआई के साथ कम से कम पिछले दो सालों से जुड़े हुए हैं।

    यानी केवल उन्हीं कामगारों को इसका फायदा मिल सकेगा जो एक अप्रैल 2018 से 31 मार्च 2020 तक इस योजना से जुड़े रहे। इस दौरान एक अक्तूबर 2019 से 31 मार्च 2020 के बीच कम से कम 78 दिनों का कामकाज जरूरी है।

    1.9 करोड़ लोगों की गई है नौकरी
    सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (सीएमआईई) के अनुसार कोरोना वायरस महामारी की वजह से पैदा हुए संकट के कारण लगभग 1.9 करोड़ लोग अपनी नौकरियां गंवा चुके हैं। केवल जुलाई के महीने में 50 लाख लोग बेरोजगार हुए हैं। हालांकि कर्मचारी भविष्य निधि संगठन के अनुसार, जून में 4.98 लाख लोग औपचारिक कार्यबल से जुड़े हैं।

    नई दिल्ली। कोरोना संकट के समय बेरोजगार हुए औद्योगिक कामगारों को सरकार की तरफ से राहत दी गई है। ऐसे कर्मचारियों को उनके पिछले तीन महीने के वेतन के औसत के करीब 50 फीसदी तक की रकम बेरोजगारी हितलाभ के रूप में सरकार देगी। सरकार के इस कदम से करीब 40 लाख कामगारों को फायदा पहुंचेगा। बताया जा रहा है कि सरकार इस नियम के तहत कोरोना संकट में नौकरी गंवा चुके औद्योगिक कामगारों को उनके तीन महीने के वेतन का 50 फीसदी तक बेरोजगारी हितलाभ के तौर पर देगी। हालांकि, सरकार के इस फैसले से सिर्फ उन कामगारों को लाभ पहुंचेगा जिनकी 24 मार्च से 31 दिसंबर 2020 के बीच अपनी नौकरी गंवाई है। गौरतलब है कि कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ईएसआईसी) की बैठक में यह प्रस्ताव रखा गया था। ईएसआईसी श्रम मंत्रालय के तहत आने वाला एक संगठन है जो कर्मचारियों को ईएसआई योजना के तहत 21,00 रुपये का बीमा मुहैया कराता है। इस योजना का फायदा केवल उन्हीं कामगारों को मिलेगा जो ईएसआई के साथ कम से कम पिछले दो सालों से जुड़े हुए हैं। यानी केवल उन्हीं कामगारों को इसका फायदा मिल सकेगा जो एक अप्रैल 2018 से 31 मार्च 2020 तक इस योजना से जुड़े रहे। इस दौरान एक अक्तूबर 2019 से 31 मार्च 2020 के बीच कम से कम 78 दिनों का कामकाज जरूरी है। 1.9 करोड़ लोगों की गई है नौकरी सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (सीएमआईई) के अनुसार कोरोना वायरस महामारी की वजह से पैदा हुए संकट के कारण लगभग 1.9 करोड़ लोग अपनी नौकरियां गंवा चुके हैं। केवल जुलाई के महीने में 50 लाख लोग बेरोजगार हुए हैं। हालांकि कर्मचारी भविष्य निधि संगठन के अनुसार, जून में 4.98 लाख लोग औपचारिक कार्यबल से जुड़े हैं।