सरकार की नई गाइडलाइन जारी, अब कोरोना के रोगियों को 5 दिन रेमडेसिवीर दी जाएगी

coro-1

नई दिल्ली: कोरोना वायरस की चपेट में आए मरीजों के इलाज के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय ने नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं. इसके तहत कोरोना के इलाज में कारगर दवा रेमडेसिवीर की खुराक को घटा दिया गया है. अब इस दवा को 6 दिन के बजाय 5 दिन तक रोगियों को दिया जाएगा. रेमडेसिवीर एंटी वायरल दवा है और इसे कोरोना के रोगियों को दिया जाता है. शुक्रवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस बाबत नए दिशा-निर्देश जारी किए.

Governments New Guideline Released Now Corona Patients Will Be Given 5 Days Remedesiveer :

स्वास्थ्य मंत्रालय का नया प्रोटोकॉल कहता है कि ये दवा रोगियों को इंजेक्शन के रूप में दी जाएगी. पहले दिन रोगी को रेमडेसिवीर की 200 मिलीग्राम की खुराक इंजेक्शन के रूप में दी जाएगी, इसके बाद अगले चार दिनों तक 100-100 मिलीग्राम की खुराक रोगी को दी जाएगी.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने 13 जून को रेमडेसिवीर को इस्तेमाल करने की इजाजत दी थी. स्वास्थ्य मंत्रालय ने तब सीमित इस्तेमाल के तहत आपातकालीन स्थिति में रेमडेसिवीर के इस्तेमाल को मंजूरी दे दी थी. हालांकि यह दवा किडनी, लिवर की बीमारियों से जूझ रहे लोगों, गर्भवती महिला, स्तनपान कराने वाली महिला और 12 साल से कम उम्र के बच्चे को नहीं दी जानी है.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के बारे में भी सलाह दी है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि इस दवा का उपयोग बीमारी की शुरूआती अवस्था में हो. मंत्रालय ने कहा है कि गंभीर रूप से बीमार व्यक्ति को यह दवा न दी जाए.

नई दिल्ली: कोरोना वायरस की चपेट में आए मरीजों के इलाज के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय ने नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं. इसके तहत कोरोना के इलाज में कारगर दवा रेमडेसिवीर की खुराक को घटा दिया गया है. अब इस दवा को 6 दिन के बजाय 5 दिन तक रोगियों को दिया जाएगा. रेमडेसिवीर एंटी वायरल दवा है और इसे कोरोना के रोगियों को दिया जाता है. शुक्रवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस बाबत नए दिशा-निर्देश जारी किए.

स्वास्थ्य मंत्रालय का नया प्रोटोकॉल कहता है कि ये दवा रोगियों को इंजेक्शन के रूप में दी जाएगी. पहले दिन रोगी को रेमडेसिवीर की 200 मिलीग्राम की खुराक इंजेक्शन के रूप में दी जाएगी, इसके बाद अगले चार दिनों तक 100-100 मिलीग्राम की खुराक रोगी को दी जाएगी.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने 13 जून को रेमडेसिवीर को इस्तेमाल करने की इजाजत दी थी. स्वास्थ्य मंत्रालय ने तब सीमित इस्तेमाल के तहत आपातकालीन स्थिति में रेमडेसिवीर के इस्तेमाल को मंजूरी दे दी थी. हालांकि यह दवा किडनी, लिवर की बीमारियों से जूझ रहे लोगों, गर्भवती महिला, स्तनपान कराने वाली महिला और 12 साल से कम उम्र के बच्चे को नहीं दी जानी है.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के बारे में भी सलाह दी है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि इस दवा का उपयोग बीमारी की शुरूआती अवस्था में हो. मंत्रालय ने कहा है कि गंभीर रूप से बीमार व्यक्ति को यह दवा न दी जाए.