1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. राष्ट्रीय पोषण माह-2021 का राज्यपाल और सीएम ने किया शुभारंभ, कहा-हम सभी को इससे जुड़कर अपना योगदान देना चाहिए

राष्ट्रीय पोषण माह-2021 का राज्यपाल और सीएम ने किया शुभारंभ, कहा-हम सभी को इससे जुड़कर अपना योगदान देना चाहिए

राज्यपाल आंनदीबेन पटेल (Anandiben Patel) और सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने राष्ट्रीय पोषण माह-2021 (National Nutrition Month-2021) का शुभारंभ किया है। इस दौरान CM ने कहा कि,'स्वस्थ भोजन, समुचित पोषण', 'स्वस्थ, समर्थ और समृद्ध उत्तर प्रदेश' की संकल्पना को साकार करने की दिशा में एक मजबूत कड़ी है। उन्होंने कहा कि, एक समर्थ व सशक्त राष्ट्र के निर्माण हेतु मां व बच्चों के स्वास्थ्य पर अनिवार्य रूप से ध्यान देना होगा।

By शिव मौर्या 
Updated Date

लखनऊ। राज्यपाल आंनदीबेन पटेल (Anandiben Patel) और सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने राष्ट्रीय पोषण माह-2021 (National Nutrition Month-2021) का शुभारंभ किया है। इस दौरान CM ने कहा कि,’स्वस्थ भोजन, समुचित पोषण’, ‘स्वस्थ, समर्थ और समृद्ध उत्तर प्रदेश’ की संकल्पना को साकार करने की दिशा में एक मजबूत कड़ी है। उन्होंने कहा कि, एक समर्थ व सशक्त राष्ट्र के निर्माण हेतु मां व बच्चों के स्वास्थ्य पर अनिवार्य रूप से ध्यान देना होगा।

पढ़ें :- Varun Gandhi letter: 400 रुपये प्रति क्विंटल होना चाहिए गन्ने का मूल्य, सीएम योगी को वरुण गांधी ने लिखा पत्र
Jai Ho India App Panchang

पढ़ें :- Mahant Narendra Giri Death: अंतिम दर्शन करने पहुंचे अखिलेश यादव, कहा-हाईकोर्ट के जज से कराई जाए जांच

प्रधानमंत्री जी के मार्गदर्शन में समाज के अंतिम पायदान पर खड़ी मां और बच्चे के सुपोषण के लिए वर्ष 2018 से सितंबर माह को ‘राष्ट्रीय पोषण माह’ के रूप में मनाया जा रहा है। इसके साथ ही एक कुपोषित मां या बच्चा केवल एक परिवार के लिए नहीं, बल्कि पूरे समाज व राष्ट्र के समक्ष चुनौती है। यूपी सरकार निरंतर इस दिशा में कार्यरत है। राष्ट्रीय पोषण माह को चार श्रेणियों में विभाजित कर विशेष अभियान चलाया जा रहा है।

पढ़ें :- Mahant Narendra Giri Suicide Mystery: पोस्टमार्टम के बाद आज होगा अंतिम संस्कार, मठ बाघम्बरी गद्दी में ही दी जाएगी समाधि

हम सभी को इससे जुड़कर अपना योगदान देना चाहिए। पहले सप्ताह में पोषण वाटिका पर पौधाकरण, दूसरे सप्ताह में आंगनबाड़ी लाभार्थियों को पोषण किट वितरण, तीसरे सप्ताह में योग और आयुष और चौथे सप्ताह में सैम बच्चों की पहचान और उनके लिए सामुदायिक रसोई का निर्माण का विशेष अभियान प्रदेश में चलाया जाएगा। वहीं, इस अवसर पर प्रदेश के 24 जिलों में 4,142 लाख रुपये की लागत से नवनिर्मित 529 आंगनबाड़ी केन्द्रों का लोकार्पण किया गया।

इसके अलावा उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाली आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, मुख्य सेविकाओं एवं बाल विकास परियोजना अधिकारियों को प्रशस्ति-पत्र देकर सम्मानित किया गया। साथ ही उप्र लोक सेवा आयोग द्वारा नवचयनित 91 बाल विकास परियोजना अधिकारियों में से प्रतीकात्मक तौर पर 10 को नियुक्ति पत्र वितरित किया गया।

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...