ग्रेटर नोएडा हादसा: नियमों को ताक पर रखकर हो रहा था निर्माण, सवालों के घेरे में जिम्मेदार

noida-building
ग्रेटर नोएडा हादसा: नियमों को ताक पर रखकर हो रहा था निर्माण, सवालों के घेरे में जिम्मेदार

नई दिल्ली। ग्रेटर नोएडा के शाहबेरी गांव में मंगलवार रात दो इमारतें गिर जाने से तीन लोगों की मौत हो गई। मलबे में कई लोगों के फंसे होने की आशंका है। बताया जा रहा है कि ये बिल्डिंग अवैध रूप से बिना कोई नक्शा पास कराये ही बनवाई जा रही थी। इस हादसे के बाद पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार किया है और 18 लोगों के खिलाफ गैर इरादतन हत्या सहित विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है। वहीं गौतम बुद्ध नगर के डीएम बृजेश नारायण सिंह ने मामले की मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए हैं।

इस हादसे के बाद अवैध निर्माण के गोरखधंधे में पूरा सरकारी अमला सवालों के घेरे में है। अथॉरिटी, बैंक, पुलिस से लेकर यूपी पावर कॉर्पोरेशन तक सब पर सवाल उठ रहे हैं। हैरत की बात है कि बिल्डरों के अवैध निर्माण की सूचना दिए जाने के बाद भी प्रशासन ने कोई कार्रवाई नहीं की।

{ यह भी पढ़ें:- जल्द हटाई जाएगी इलाहाबाद हाईकोर्ट परिसर में बनी अवैध मस्जिद, आदेश जारी }

बता दें कि इसी महीने यूपी पुलिस और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को ट्वीट कर बिसरख थाना क्षेत्र स्थित शाहबेरी में अवैध प्लॉटिंग और निर्माण की सूचना देकर कार्रवाई की मांग की गई थी। ट्वीट में आरोप लगाया गया था कि भूमाफिया थाना प्रभारी को मोटी रकम देकर अवैध तरीके से काम कर रहे हैं। डीजीपी यूपी और मेरठ जोन के एडीजी से अनुरोध किया गया था कि गरीब जनता को भूमाफियाओं से बचा लीजिए।

इस ट्वीट पर यूपी पुलिस ने नोएडा पुलिस से प्रकरण की जांच कर आवश्यक कार्यवाही करने को कहा। नोएडा पुलिस ने इसका जवाब भी दिया पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। यूपीपीसीएल के अधिकारियों ने भी मानकों को ताक पर रखते हुए अवैध इमारतों को बिजली कनेक्शन दे दिया। वहीं, बैंकों ने अवैध बिल्डिंग्स के लिए लोन भी जारी कर दिया।

{ यह भी पढ़ें:- शहर में अवैध निर्माण पर हाईकोर्ट सख्त, LDA से पूछा- इसके लिए कौन अफसर जिम्मेदार }

हादसे के बाद जब हमने अथॉरिटी के अधिकारियों से बात की तो उन्होंने दबी जुबान में कहा कि जब भी वे यहां कार्रवाई के लिए आते थे तो अवैध निर्माण का जाल फैलाने वाले माफिया इकट्ठा हो जाते थे। उनका कहना है कि सख्ती की जाती थी तो यहां के स्थानीय नेता भी उनके समर्थन में उतर आते थे।

नई दिल्ली। ग्रेटर नोएडा के शाहबेरी गांव में मंगलवार रात दो इमारतें गिर जाने से तीन लोगों की मौत हो गई। मलबे में कई लोगों के फंसे होने की आशंका है। बताया जा रहा है कि ये बिल्डिंग अवैध रूप से बिना कोई नक्शा पास कराये ही बनवाई जा रही थी। इस हादसे के बाद पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार किया है और 18 लोगों के खिलाफ गैर इरादतन हत्या सहित विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है।…
Loading...