पंचायत के फरमान पर हुई विधवा से नाबलिग की शादी, फेरों के बाद हुआ ये हाल

bihar-minor-marriage

बिहार। भारतीय समाज में रिश्तों को सर्वोपरि रखा जाता है और बच्चों को बचपन से ही रिश्तों की कद्र करने की शिक्षा दी जाती है। हम ये बातें इसलिए बता रहे हैं क्योंकि एक मामले में रिश्तों की दीवारों को लांघते हुए एक नाबालिग की जीवन लीला समाप्त हो गयी। मामला बिहार के गया जिले का है। यहां रिश्ते में मां समान विधवा भाभी से नाबालिग की जबरन शादी करा दी गयी। घर वालों के इस फैसले से आहत नाबालिग ने आत्महत्या का फैसला ले लिया। सोमवार को शादी और विदाई के चार घंटे बीतने के बाद शर्मिंदगी की वजह से नाबालिग ने फांसी लगाकर जान दे दी।

यह है पूरा मामला

{ यह भी पढ़ें:- एक माह के बच्चे के साथ ट्रैक पर लेटी महिला, ट्रेन गुज़र गयी किसी को नहीं आई खरोच }

पूरी घटना इतनी जल्दी हुई कि लोगों को कुछ समझ भी नहीं आया। सोमवार को पंचायत में 12 बजे शादी का फैसला सुनाया गया और दोपहर 2 बजे तक शादी की सभी प्रक्रिया शुरू हो गयी। गांव में ही स्थित देवी मंदिर में चार बजे तक शादी की सभी रस्में सम्पन्न हुई। जैसा कि नाबालिग शादी के खिलाफ था लेकिन जबरन शादी से दुखी होकर करीब 8 बजे तक गमछे से फांसी लगाकर जान दे दी।

गया के एक गांव में रहने वाले चंद्रशेखर दास के तीन बेटे थे। जिसमें बड़े बेटे सतीश दास की चार साल पहले करंट लगने से मौत हो गई थी। बड़े बेटे की विधवा रूबी यादव के एक बेटा और एक बेटी है। फिलहाल बेटी की उम्र सात और बेटे की उम्र पांच साल है। चंद्रशेखर के मंझले बेटे मनीष की भी शादी हो चुकी है।

{ यह भी पढ़ें:- गुजरात: दलित दूल्हे के घोड़ी चढ़ने पर मचा बवाल, पुलिस सुरक्षा में हुई शादी }

छोटा बेटा महादेव उर्फ शिवधन दास नौवीं का छात्र था जिसकी उम्र 15 साल थी। रूबी देवी के मायके वाले बेटी की दोबारा शादी के लिए 80 हजार रुपये की लगातार मांग कर रहे थे। मांगी गयी रकम न देने की स्थिति में सोमवार को पंचायती हुई और नाबालिग से विधवा की शादी जबरन करा दी गई।

पैसों के अभाव में हुई9 शादी

मृतक के पिता चंद्रशेखर दास एक हाथ से विकलांग हैं उन्होने कहा कि घटना की सूचना के बाद भी लड़की के मायकेवाले उसके ससुराल नहीं पहुंचे। आगे उन्होने बताया कि बेटी की दूसरी शादी करवाने के लिए 80 हजार रुपया देने में असमर्थ थे जिसकी वजह से छोटे बेटे की शादी जबरन उसकी विधवा भाभी से करवा दी गयी। पैसा होता तो बेटा नहीं गंवाना पड़ता।

{ यह भी पढ़ें:- सड़क निर्माण परियोजनाओं को लेकर ​नितीश और मोदी सरकार में तनातनी }

चंद कदम दूरी पर है थाना

जिस देवी मंदिर में नाबालिग की शादी हुई, उसकी बाउंड्री के ठीक पीछे थाना है। यानी पुलिस अधिकारियों के आवास की छत से सब कुछ देखा जा सकता था। हालांकि पुलिस को इसकी भनक तक नहीं लगी। नाबालिग की मौत के बाद मंगलवार की सुबह सूचना दिए जाने पर पुलिस पहुंची और पोस्टमार्टम और केस दर्ज करने की औपचारिकता भर निभाई।

थानाध्यक्ष इस मसले पर कुछ कहने के बजाय सिर्फ इतना ही बता रहे कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही कोई कार्रवाई होगी। उधर, टिकारी के डीएसपी मनीष कुमार सिन्हा का कहना है कि घटना की पूरी जानकारी प्राप्त की जा रही हैं। नाबालिग की जबरन शादी की भी जानकारी मिली है। जांच में यदि यह सत्य पाया गया तो दोषी लोगों पर एफआईआर दर्ज किया जाएगा।

{ यह भी पढ़ें:- नीतीश को कांग्रेस का आॅफर, BJP से नाता तोड़े तो महागठबंधन में हो सकता है शामिल }

बिहार। भारतीय समाज में रिश्तों को सर्वोपरि रखा जाता है और बच्चों को बचपन से ही रिश्तों की कद्र करने की शिक्षा दी जाती है। हम ये बातें इसलिए बता रहे हैं क्योंकि एक मामले में रिश्तों की दीवारों को लांघते हुए एक नाबालिग की जीवन लीला समाप्त हो गयी। मामला बिहार के गया जिले का है। यहां रिश्ते में मां समान विधवा भाभी से नाबालिग की जबरन शादी करा दी गयी। घर वालों के इस फैसले से आहत नाबालिग ने…
Loading...