जीएसटी रिटर्न फाइल करने की आखिरी तारीख बढ़ी

g

नई दिल्ली। सेंट्रल बोर्ड ऑफ इन डायरेक्ट टैक्सेस ने वित्त वर्ष 2017.18 के लिए वार्षिक जीएसटी रिटर्न फाइल करने की तारीख 3 महीने से बढ़ा दी है।

Gst Return Filing Date Extended For Financial Year 2017 18 To 30 November :

पहले जीएसटी रिटर्न भरने की आखिरी तारीख 31 अगस्त थी जिसे बढ़ाकर 30 नवंबर 2019 तक कर दिया गया है। सीबीआईसी ने ट्वीट कर कहा किए 2017- 18 के लिए वार्षिक रिटर्न फाइल करने के लिए GSTR-9, GSTR-9A और GSTR-9C फॉर्म भरने की तारीख को आगे बढ़ाया गया है।

अगर किसी ने GST रजिस्ट्रेशन कराया है तो GSTR-9 वार्षिक रिटर्न फॉर्म होता है। इस फॉर्म में सप्लाई और पर्चेज की पूरी जानकारी होती है. GSTR-9A,इस फॉर्म का इस्तेमाल कंपोजिशन स्कीम टैक्सपेयर्स द्वारा किया जाता है। इसमें एक फाइनेंशियल इयर में कुल SGST, CGST और IGST रिटर्न फाइल की जानकारी होती है।

अगर सालाना टर्नओवर 2 करोड़ से ज्यादा का है तो उसे GSTR-9C फॉर्म भरना होता है जो एक ऑडिट रिपोर्ट कहलाती है। इस फॉर्म को एक चार्टर्ड अकाउंटेंट से वेरिफाई करवाने की जरूरत होती है। तारीख बढ़ाने को लेकर CBIC ने कहा कि टेक्निकल प्रॉब्लम की वजह से टैक्सपेयर्स 1 जुलाई 2017 से 31 मार्च 2018 का GST रिटर्न नहीं फाइल कर पा रहे हैं. इसी वजह से तारीख आगे बढ़ाने का फैसला लिया गया है।

नई दिल्ली। सेंट्रल बोर्ड ऑफ इन डायरेक्ट टैक्सेस ने वित्त वर्ष 2017.18 के लिए वार्षिक जीएसटी रिटर्न फाइल करने की तारीख 3 महीने से बढ़ा दी है। पहले जीएसटी रिटर्न भरने की आखिरी तारीख 31 अगस्त थी जिसे बढ़ाकर 30 नवंबर 2019 तक कर दिया गया है। सीबीआईसी ने ट्वीट कर कहा किए 2017- 18 के लिए वार्षिक रिटर्न फाइल करने के लिए GSTR-9, GSTR-9A और GSTR-9C फॉर्म भरने की तारीख को आगे बढ़ाया गया है। अगर किसी ने GST रजिस्ट्रेशन कराया है तो GSTR-9 वार्षिक रिटर्न फॉर्म होता है। इस फॉर्म में सप्लाई और पर्चेज की पूरी जानकारी होती है. GSTR-9A,इस फॉर्म का इस्तेमाल कंपोजिशन स्कीम टैक्सपेयर्स द्वारा किया जाता है। इसमें एक फाइनेंशियल इयर में कुल SGST, CGST और IGST रिटर्न फाइल की जानकारी होती है। अगर सालाना टर्नओवर 2 करोड़ से ज्यादा का है तो उसे GSTR-9C फॉर्म भरना होता है जो एक ऑडिट रिपोर्ट कहलाती है। इस फॉर्म को एक चार्टर्ड अकाउंटेंट से वेरिफाई करवाने की जरूरत होती है। तारीख बढ़ाने को लेकर CBIC ने कहा कि टेक्निकल प्रॉब्लम की वजह से टैक्सपेयर्स 1 जुलाई 2017 से 31 मार्च 2018 का GST रिटर्न नहीं फाइल कर पा रहे हैं. इसी वजह से तारीख आगे बढ़ाने का फैसला लिया गया है।