गुजरात राज्यसभा उपचुनाव: कांग्रेस को SC से झटका, दोनों सीटों पर अलग-अलग ही होंगे चुनाव

sc
गुजरात राज्यसभा उपचुनाव: कांग्रेस को SC से झटका, दोनों सीटों पर अलग-अलग ही होंगे चुनाव

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात की 2 राज्यसभा सीटों पर अलग-अलग उपचुनाव कराने के खिलाफ दायर की गई कांग्रेस की याचिका को मंगलवार को खारिज कर दिया है। चुनाव आयोग ने इन सीटों पर अलग-अलग उपचुनाव कराए जाने का फैसला किया था, जबकि कांग्रेस दोनों सीटों पर एक साथ चुनाव चाहती थी।

Gujarat Rajya Sabha Byelection Supreme Court Congress Bjp Election Commission :

हालांकि, जस्टिस संजीव खन्ना और जस्टिस बीआर गवई की वेकेशन बेंच ने गुजरात कांग्रेस को चुनाव के बाद इलेक्शन पिटीशन दाखिल करने की इजाजत दे दी है। कोर्ट ने कहा, “चुनाव की अधिसूचना जारी होने के बाद कोर्ट चुनाव की प्रक्रिया में दखल नहीं दे सकती। चुनाव के बाद आप इलेक्शन पिटीशन दायर कर सकते हैं।”

अब दोनों सीटें जीत सकती है बीजेपी

कोर्ट के फैसले के बाद अब बीजेपी दोनों सीटें जीतने में कामयाब हो सकती है। संख्या बल के हिसाब से गुजरात में राज्यसभा का चुनाव जीतने के लिए उम्मीदवार को 61 वोट चाहिए। चुनाव आयोग के नोटिफिकेशन के मुताबिक, विधायक अलग-अलग वोट करेंगे। ऐसे में उन्हें दो बार वोट करने का मौका मिलेगा। इस तरह बीजेपी विधायक जिनकी संख्या 100 से ज्यादा है वे दो बार वोट करके दोनों उम्मीदवारों को जितवा सकते हैं।

क्या है पूरा मामला

दरअसल केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के गांधीनगर और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के अमेठी से लोकसभा सदस्य चुने जाने के बाद राज्यसभा सीटें खाली हुई हैं। कांग्रेस विधायक और गुजरात विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष परेशभाई धनानी ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर चुनाव आयोग से दोनों सीटों पर साथ-साथ चुनाव कराने का निर्देश देने का अनुरोध किया गया।

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात की 2 राज्यसभा सीटों पर अलग-अलग उपचुनाव कराने के खिलाफ दायर की गई कांग्रेस की याचिका को मंगलवार को खारिज कर दिया है। चुनाव आयोग ने इन सीटों पर अलग-अलग उपचुनाव कराए जाने का फैसला किया था, जबकि कांग्रेस दोनों सीटों पर एक साथ चुनाव चाहती थी। हालांकि, जस्टिस संजीव खन्ना और जस्टिस बीआर गवई की वेकेशन बेंच ने गुजरात कांग्रेस को चुनाव के बाद इलेक्शन पिटीशन दाखिल करने की इजाजत दे दी है। कोर्ट ने कहा, "चुनाव की अधिसूचना जारी होने के बाद कोर्ट चुनाव की प्रक्रिया में दखल नहीं दे सकती। चुनाव के बाद आप इलेक्शन पिटीशन दायर कर सकते हैं।" अब दोनों सीटें जीत सकती है बीजेपी कोर्ट के फैसले के बाद अब बीजेपी दोनों सीटें जीतने में कामयाब हो सकती है। संख्या बल के हिसाब से गुजरात में राज्यसभा का चुनाव जीतने के लिए उम्मीदवार को 61 वोट चाहिए। चुनाव आयोग के नोटिफिकेशन के मुताबिक, विधायक अलग-अलग वोट करेंगे। ऐसे में उन्हें दो बार वोट करने का मौका मिलेगा। इस तरह बीजेपी विधायक जिनकी संख्या 100 से ज्यादा है वे दो बार वोट करके दोनों उम्मीदवारों को जितवा सकते हैं। क्या है पूरा मामला दरअसल केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के गांधीनगर और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के अमेठी से लोकसभा सदस्य चुने जाने के बाद राज्यसभा सीटें खाली हुई हैं। कांग्रेस विधायक और गुजरात विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष परेशभाई धनानी ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर चुनाव आयोग से दोनों सीटों पर साथ-साथ चुनाव कराने का निर्देश देने का अनुरोध किया गया।