आज से शुरू हो गए गुप्त नवरात्र, भूल से भी न करें ये काम

नवरात्रि में न करें ये काम, मां लक्ष्मी
आज से शुरू हो गए गुप्त नवरात्र, भूल से भी न करें ये काम

लखनऊ। 13 जुलाई 2018 यानि आज से शुरू हो रहे हैं आषाढ़ महीने के गुप्त नवरात्र। इस बार यह 13 जुलाई से शुरू होकर 21 जुलाई तक चलेगा। इस बार गुप्त नवरात्रि पर खास योग बन रहा है जिसमें पुष्य नक्षत्र और सर्वार्थ सिद्धि योग में यह आरंभ हो रहा है साथ ही सर्वार्थ सिद्धि योग, रवियोग व अमृत सिद्धि योग में नवरात्र का समापन होगा। गुप्त नवरात्र में भी आम नवरात्र की तरह मां दुर्गा की पूजा की जाती है और पूरे 9 दिनों तक व्रत रखा जाता है।

इन जगहों पर खासतौर पर मनाया जाता है गुप्त नवरात्र

{ यह भी पढ़ें:- Hariyali Teej 2018: जानिए क्यों मनाई जाती है हरियाली तीज }

गुप्त नवरात्रि प्रमुख रूप से हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब और हरियाणा में मनाया जाता है। इस दौरान किया गया पूजन व अनुष्ठान कई गुना फलदायी है।

भूल से भी न करें ये काम

  • इस दौरान 9 दिन तक व्रत रखने वाले साधकों को काले कपड़े नहीं पहनने चाहिए।
  • गुप्त नवरात्र में मां का पूजन करने वाले भक्तों को चमड़े की चीजों से दूर रहना चाहिए।
  • इस दौरान बाल नहीं कटवाने चाहिए, बच्चों का मुंडन संस्कार भी इस दौरान वर्जित है।
  • गुप्त नवरात्र के दौरान व्रत व अनुष्ठान करने वाले भक्तों को दिन में सोना नहीं चाहिए।
  • इस दौरान किसी भी व्यक्ति को अपशब्द नहीं बोलना चाहिए।
  • देवी की अाराधना के इस पर्व के दौरान नारी का अपमान नहीं करना चाहिए।
  • इस दौरान 9 दिन तक व्रत करने वाले साधकों को नमक व अनाज का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • गुप्त नवरात्र के दौरान भक्तों को प्याज, लहसुन व मांसाहार का सेवन नहीं करना चाहिए।

इसलिए कहते हैं गुप्त नवरात्र

{ यह भी पढ़ें:- Shani Amavasya 2018: आज है शनि अमावस्या, शनि दोष मुक्ति के लिये करें ये काम }

गुप्त नवरात्र में माता काली के गुप्त स्वरुप की पूजा करने का विधान है। यह पूजा तंत्र साधना के लिए की जाती है जोकि बहुत ज्यादा कठिन मानी जाती है इसलिए इसे गुप्त नवरात्र कहा जाता है।

लखनऊ। 13 जुलाई 2018 यानि आज से शुरू हो रहे हैं आषाढ़ महीने के गुप्त नवरात्र। इस बार यह 13 जुलाई से शुरू होकर 21 जुलाई तक चलेगा। इस बार गुप्त नवरात्रि पर खास योग बन रहा है जिसमें पुष्य नक्षत्र और सर्वार्थ सिद्धि योग में यह आरंभ हो रहा है साथ ही सर्वार्थ सिद्धि योग, रवियोग व अमृत सिद्धि योग में नवरात्र का समापन होगा। गुप्त नवरात्र में भी आम नवरात्र की तरह मां दुर्गा की पूजा की जाती…
Loading...