गुरूग्राम को मिली केन्द्र सरकार की मंजूरी

नई दिल्ली। दिल्ली की सीमा से सटे हरियाणा के गुडगांव शहर के नाम को बदलने की अ​न्तिम औपचारिकता पूरी कर ली गई। केन्द्र सरकार की मंजूरी के साथ गुडगांव को गुरूग्राम के नाम से जाना जाएगा। हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर के मुताबिक गुडगांव शहर के अलावा जिले का नाम भी गुरूग्राम ही होगा।




पिछले करीब एक साल से गुडगांव का नाम बदले जाने को लेकर सरकारी प्रक्रिया अपनाई जा रही थी। ​हरियाणा सरकार ने कई संस्थाओं की मांग पर ध्यान देते हुए गुडगांव का नाम बदलकर गुरूग्राम करने का फैसला लिया था। जिस पर केन्द्र सरकार की मंजूरी लेना जरूरी।

गुडगावं के नाम को बदलने को लेकर कई संस्थाओं का तर्क था कि हमारे इतिहास में इस क्षेत्र का जुड़ाव गुरू द्रोणाचार्य से रहा है। महाभारत काल का जिक्र करते हुए जानकार बताते हैं कि इंद्रप्रस्थ यानी आज की दिल्ली राज्य के राजकुमार द्रोणाचार्य के शिष्य हुआ करते थे। द्रोणाचार्य ने राजकुमारों को इसी स्थान पर शिक्षा दी थी। तभी से इस इलाके को गुरूग्राम के नाम से जाना जाता रहा है। लेकिन गुजरते समय के साथ शहर का नाम बिगड़कर गुडगांव हो गया।




वर्तमान समय में गुडगांव देश के सबसे मंहगे शहर के रूप में अपनी पहचान रखता है। दुनिया की शीर्ष बहुराष्ट्रीय कंपनियों से लेकर भारत की लगभग हर बड़ी कंपनी के मुख्यालय इसी शहर में बने हैं।