राजनाथ के बयान से बौखलाया हाफिज सईद, कहा चुनौती कुबूल

लाहौर: जमात उद दावा प्रमुख एवं मुंबई आतंकी हमले के मुख्य षड्यंत्रकर्ता हाफिज सईद ने आज कहा कि वह भारत के गृहमंत्री राजनाथ सिंह की उस टिप्पणी को ‘युद्ध की घोषणा’ मानता है, जिसमें उन्होंने कहा था कि अगर पाकिस्तान आतंकवाद पर काबू नहीं पाता है तो वह दस टुकड़ों में विभाजित हो जाएगा।




नसीर बाग लाहौर में एक रैली में उद दावा के मुखिया हाफ़िज सईद ने कहा कि हम राजनाथ सिंह के बयान को युद्ध की घोषणा मानते हैं और चुनौती स्वीकार करते हैं। हम नियंत्रण रेखा पर संघर्ष विराम को स्वीकार नहीं करते हैं। उसने सरकार को भारत के कथित जासूस कुलभूषण को क्लीन चिट नहीं देने की चेतावनी दी।




इससे पहले गुरूवार को गुलाम कश्मीर की राजधानी मुजफ्फराबाद में भी एक रैली को संबोधित करते हुए हाफिज सईद ने सरताज अजीज पर निशाना साधा था। उसका कहना था, ‘हिंदुस्तान जाने की बजाय अजीज को कश्मीर में जारी मानवाधिकार के उल्लंघन का मुद्दा विश्व समुदाय के समक्ष उठाने में अपना समय खर्च करना चाहिए।’ ध्यान रहे कि दिसंबर महीने के शुरू में अमृतसर में आयोजित हार्ट ऑफ एशिया सम्मेलन में अजीज ने भाग लिया था।

Hafiz Saeed Said Rajnath Singhs On Pakistan Statement Is A Declaration Of War :

गौरतलब है कि शहीदी दिवस कार्यक्रम के मौके पर राजनाथ सिंह ने कठुआ में पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि भले ही पाकिस्तान ने चार-चार बार हिंदुस्तान पर हमला किया हो लेकिन हर बार भारत के जवानों ने उनके दांत खट्टे कर दिए हैं। इतना ही नहीं राजनाथ ने पाकिस्तान को चेतावनी देते हुए कहा कि अभी तो पाकिस्तान के दो टुकड़े हुए हैं अगर वो (पाकिस्तान) अपनी हरकतों से बाज नहीं आया तो शायद उसके 10 टुकड़े हो जाएं।




राजनाथ ने कहा कि पाकिस्तान को इस हकीकत को समझना चाहिए कि आतंकवाद बहादुर लोगों का हथियार नहीं हुआ करता है। ये कायरों का हथियार होता है। करगील का जिक्र करते हुए गृहमंत्री ने कहा कि कारगील युद्ध में भी पाकिस्तान को शिकस्त झेलनी पड़ी थी। पाकिस्तान अब समझ गया है कि इंडिया को सीधे पराजित नहीं कर सकता। इसलिए आतंकवाद के सहारे वो चाहते हैं कि हम जम्मू और कश्मीर को भारत से अलग कर देंगे। आतंकवाद बहादुरों का नहीं कायरों का हथियार होता है। उन्होंने कहा कि अभी तो पाकिस्तान के दो टुकड़े हुए हैं, अगर वो अपनी हरकतों से बाज नहीं आया तो शायद उसके 10 टुकड़े हो जाएं।

लाहौर: जमात उद दावा प्रमुख एवं मुंबई आतंकी हमले के मुख्य षड्यंत्रकर्ता हाफिज सईद ने आज कहा कि वह भारत के गृहमंत्री राजनाथ सिंह की उस टिप्पणी को ‘युद्ध की घोषणा’ मानता है, जिसमें उन्होंने कहा था कि अगर पाकिस्तान आतंकवाद पर काबू नहीं पाता है तो वह दस टुकड़ों में विभाजित हो जाएगा। नसीर बाग लाहौर में एक रैली में उद दावा के मुखिया हाफ़िज सईद ने कहा कि हम राजनाथ सिंह के बयान को युद्ध की घोषणा मानते हैं और चुनौती स्वीकार करते हैं। हम नियंत्रण रेखा पर संघर्ष विराम को स्वीकार नहीं करते हैं। उसने सरकार को भारत के कथित जासूस कुलभूषण को क्लीन चिट नहीं देने की चेतावनी दी। इससे पहले गुरूवार को गुलाम कश्मीर की राजधानी मुजफ्फराबाद में भी एक रैली को संबोधित करते हुए हाफिज सईद ने सरताज अजीज पर निशाना साधा था। उसका कहना था, 'हिंदुस्तान जाने की बजाय अजीज को कश्मीर में जारी मानवाधिकार के उल्लंघन का मुद्दा विश्व समुदाय के समक्ष उठाने में अपना समय खर्च करना चाहिए।' ध्यान रहे कि दिसंबर महीने के शुरू में अमृतसर में आयोजित हार्ट ऑफ एशिया सम्मेलन में अजीज ने भाग लिया था।गौरतलब है कि शहीदी दिवस कार्यक्रम के मौके पर राजनाथ सिंह ने कठुआ में पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि भले ही पाकिस्तान ने चार-चार बार हिंदुस्तान पर हमला किया हो लेकिन हर बार भारत के जवानों ने उनके दांत खट्टे कर दिए हैं। इतना ही नहीं राजनाथ ने पाकिस्तान को चेतावनी देते हुए कहा कि अभी तो पाकिस्तान के दो टुकड़े हुए हैं अगर वो (पाकिस्तान) अपनी हरकतों से बाज नहीं आया तो शायद उसके 10 टुकड़े हो जाएं। राजनाथ ने कहा कि पाकिस्तान को इस हकीकत को समझना चाहिए कि आतंकवाद बहादुर लोगों का हथियार नहीं हुआ करता है। ये कायरों का हथियार होता है। करगील का जिक्र करते हुए गृहमंत्री ने कहा कि कारगील युद्ध में भी पाकिस्तान को शिकस्त झेलनी पड़ी थी। पाकिस्तान अब समझ गया है कि इंडिया को सीधे पराजित नहीं कर सकता। इसलिए आतंकवाद के सहारे वो चाहते हैं कि हम जम्मू और कश्मीर को भारत से अलग कर देंगे। आतंकवाद बहादुरों का नहीं कायरों का हथियार होता है। उन्होंने कहा कि अभी तो पाकिस्तान के दो टुकड़े हुए हैं, अगर वो अपनी हरकतों से बाज नहीं आया तो शायद उसके 10 टुकड़े हो जाएं।