बिहार: नशे में धुत थाना प्रभारी ने मचाया उत्पात, पूर्ण प्रतिबन्ध के बाढ़ कहाँ से आई शराब?

हाजीपुर: वर्दी पर एक बार फिर दाग लगा है। इस बार बिहार पुलिस की वर्दी दागदार हुई है। कहने को तो पुलिस का नारा सेवा, सुरक्षा और सहयोग है। लेकिन वो, कैसे जनता की सेवा करती है और कैसे उनकी सुरक्षा करती है ज़रा यह भी देख लीजिए।




दरअसल, बिहार के वैशाली जिले के सहदेई सहायक थाना के थाना प्रभारी संजय गौड़ को शराब के नशे में धुत होकर उत्पात मचाने के आरोप में न केवल निलंबित कर दिया गया, बल्कि गिरफ्तार भी कर लिया गया। पुलिस के अनुसार, आरोप है कि थाना प्रभारी संजय गौड़ रविवार की रात नशे में धुत होकर अपनी कार से एक ग्रामीण आदित्य कुमार को ठोकर मार दी और शिकायत करने पर धौंस दिखाते हुए उस पर सरकारी पिस्तौल तान दी।

इस घटना के बाद आस-पास के ग्रामीण जमा हो गए और थाना प्रभारी को बंधक बनाकर इसकी सूचना वरीय पुलिस अधिकारियों को दे दी। सूचना मिलने के बाद घटनास्थल पर पहुंचे सहायक पुलिस अधीक्षक उपेंद्र वर्मा ने आरोपी थाना प्रभारी और उनके एक सहयोगी संजय सिंह को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में भेजकर जांच कराई गई, जिसमें शराब पीने की पुष्टि हुई।




वैशाली पुलिस अधीाक्षक राकेश कुमार ने सोमवार को बताया कि पीड़ित युवक आदित्य के लिखित बयान के आधार पर देसरी थाने में थाना प्रभारी संजय गौड़ और उसके सहयोगी संजय सिंह के खिलाफ बिहार उत्पाद अधिनियम एक्ट 2016 के तहत प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। उल्लेखनीय है कि बिहार में इस साल अप्रैल महीने से शराब पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया गया है।