चीन के साथ झड़प में हमीरपुर के जवान ने पाई शहादत, पूरे हिमाचल को शहादत पर नाज

8013Hamirpur_jawan_gets_martyrdom_in_conflict_with_China,_entire_Himachal_is_proud_of_martyrdom (1)

शिमला: लद्दाख में भारत-चीन सीमा विवाद में हिमाचल प्रदेश का एक जवान शहीद हो गया है। शहीद अंकुश ठाकुर (21) हमीरपुर जिले के उपमंडल भोरंज के गांव कड़होता का रहने वाला था। अंकुश वर्ष 2018 में पंजाब रेजीमेंट में भर्ती हुआ था। जांबाज के पिता और दादा भी भारतीय सेना में सेवाएं दे चुके हैं। दस माह पहले ही अंकुश ने रंगरूटी काटकर घर से सेना की नौकरी ज्वाइन की थी।

Hamirpur Jawan Gets Martyrdom In Conflict With China Entire Himachal Is Proud Of Martyrdom :

शहीद का छोटा भाई छठी कक्षा में पढ़ाई कर रहा है। जैसे ही 21 वर्षीय जवान के शहीद होने की सूचना सेना मुख्यालय से ग्राम पंचायत कड़ोहता को फोन द्वारा दी गई तो जिले में शोक की लहर दौड़ गई। उल्लेखनीय है कि भारत और चीन के बीच बॉर्डर पर कई महीने से तनाव बना हुआ था जिसके चलते कल सीमा पर दोनों देशों के सैनिक इकट्ठे थे रात में झड़प हुई और हमीरपुर जिले का जवान जिसकी उम्र मात्र 21 वर्ष थी शहीद हो गया।

ग्राम प्रधान बिजेंद्र के अनुसार शहीद की पार्थिव शरीर अभी लेह में ही है और उसे हवाई मार्ग से चंडीगढ़ लाया जाएगा। उसके बाद उसके पैतृक गांव लाया जाएगा। भोरंज के एसडीएम डॉ.अमित शर्मा ने भारतीय सैनिक अंकुश ठाकुर के शहीद होने की पुष्टि की है।

शिमला: लद्दाख में भारत-चीन सीमा विवाद में हिमाचल प्रदेश का एक जवान शहीद हो गया है। शहीद अंकुश ठाकुर (21) हमीरपुर जिले के उपमंडल भोरंज के गांव कड़होता का रहने वाला था। अंकुश वर्ष 2018 में पंजाब रेजीमेंट में भर्ती हुआ था। जांबाज के पिता और दादा भी भारतीय सेना में सेवाएं दे चुके हैं। दस माह पहले ही अंकुश ने रंगरूटी काटकर घर से सेना की नौकरी ज्वाइन की थी। शहीद का छोटा भाई छठी कक्षा में पढ़ाई कर रहा है। जैसे ही 21 वर्षीय जवान के शहीद होने की सूचना सेना मुख्यालय से ग्राम पंचायत कड़ोहता को फोन द्वारा दी गई तो जिले में शोक की लहर दौड़ गई। उल्लेखनीय है कि भारत और चीन के बीच बॉर्डर पर कई महीने से तनाव बना हुआ था जिसके चलते कल सीमा पर दोनों देशों के सैनिक इकट्ठे थे रात में झड़प हुई और हमीरपुर जिले का जवान जिसकी उम्र मात्र 21 वर्ष थी शहीद हो गया। ग्राम प्रधान बिजेंद्र के अनुसार शहीद की पार्थिव शरीर अभी लेह में ही है और उसे हवाई मार्ग से चंडीगढ़ लाया जाएगा। उसके बाद उसके पैतृक गांव लाया जाएगा। भोरंज के एसडीएम डॉ.अमित शर्मा ने भारतीय सैनिक अंकुश ठाकुर के शहीद होने की पुष्टि की है।