हनुमान जयंती 2018: जानिए कब है हनुमान जयंती, पूजन विधि और शुभ मंत्र

धन संबंधी समस्याओं को दूर करने के लिए मंगलवार को करें ये उपाय
धन संबंधी समस्याओं को दूर करने के लिए मंगलवार को करें ये उपाय

लखनऊ। महाकाल शिव के 11 वें रुद्रावतार हैं महावीर हनुमान, जिनकी विधिवत् पूजा पाठ करने से सभी बाधाओं का नाश होता है और मनोकामना पूरी होती है। बजरंगबली के जन्मोत्सव को हनुमान जयंती के रूप में मनाया जाता है और इस बार यह विशेष दिन 31 मार्च को पड़ रहा है। इस दिन हनुमानजी के भक्तों पर विशेष कृपा बरसेगी। इस शुभ अवसर पर आप हनुमान जी के पाठ से आप सर्व कष्टों अर्थात नौकरी,व्यापार में बाधा एवं रोगों के प्रकोप जैसी समस्याओं को दूर कर सकते हैं।

हनुमान जयंती की पूजा का शुभ मुहूर्त

{ यह भी पढ़ें:- हनुमान जयंती 2018: जानिए क्यों चढ़ाया जाता है बजरंबली को सिंदूर }

  • 30 मार्च 2018 को शाम 7 बजकर 36 मिनट 38 सेकेंड से पूर्णिमा आरंभ।
  • 31 मार्च 2018 को शाम 6 बजकर 8 मिनट 29 सेकेंड पर पूर्णिमा समाप्त।

ऐसे करें पूजा

  • हनुमान जयंती के दिन सुबह उठकर सीता-राम और हनुमान जी का जाप करें।
  • स्नाान करने के बाद ध्याउन करें और व्रत का संकल्पस लें।
  • इसके बाद स्वनच्छब वस्त्र धारण कर पूर्व दिशा में हनुमान जी की प्रतिमा को स्थापित करें। मान्यपता है कि हनुमान जी मूर्ति खड़ी अवस्था में होनी चाहिए।
  • पूजा करते समय इस मंत्र का जाप करें: ‘ॐ श्री हनुमंते नम:’।
  • इस दिन हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाएं।
  • हनुमान जी को पान का बीड़ा चढ़ाएं।
  • मंगल कामना करते हुए इमरती का भोग लगाना भी शुभ माना जाता है।
  • हनुमान जयंती के दिन रामचरितमानस के सुंदर कांड और हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए।
    आरती के बाद गुड़-चने का प्रसाद बांटें।

इन बातों का रखें ध्यान

  • हनुमान जी की पूजा में शुद्धता का बड़ा महत्वं है। ऐसे में नहाने के बाद साफ-धुले कपड़े ही पहनें।
  • मांस या मदिरा का सेवन न करें।
  • अगर व्रत रख रहे हैं तो नमक का सेवन न करें।
  • हनुमान जी बाल ब्रह्मचारी थे और स्त्रि यों के स्पहर्श से दूर रहते थे। ऐसे में महिलाएं हनुमन जी के चरणों में दीपक प्रज्व्ता लित कर सकती हैं।
  • पूजा करते वक्तब महिलाएं न तो हनुमान जी मूर्ति का स्पार्श करें और न ही वस्त्रे अर्पित करें।

हनुमान गयंत्री मंत्र
ऊँ अंजनी जाय विद्महे वायुपुत्राय धीमहि तन्नो हनुमान प्रचोदयात्

लखनऊ। महाकाल शिव के 11 वें रुद्रावतार हैं महावीर हनुमान, जिनकी विधिवत् पूजा पाठ करने से सभी बाधाओं का नाश होता है और मनोकामना पूरी होती है। बजरंगबली के जन्मोत्सव को हनुमान जयंती के रूप में मनाया जाता है और इस बार यह विशेष दिन 31 मार्च को पड़ रहा है। इस दिन हनुमानजी के भक्तों पर विशेष कृपा बरसेगी। इस शुभ अवसर पर आप हनुमान जी के पाठ से आप सर्व कष्टों अर्थात नौकरी,व्यापार में बाधा एवं रोगों के…
Loading...