सड़क पर नमाज के विरोध में नेशनल हाईवे पर पढ़ी गयी हनुमान चालीसा

b

बागपत। उत्तर प्रदेश बागपत जनपद में सड़कों में पढ़ी जानें वाली नमाज के बाद को विरोध में हिंदू संगठन और बीजेपी नेता सड़क पर हनुमान चालीसा पढऩे के लिए आगे आ गए हैं।

Hanuman Chalisa Performed On Nh 709 In Baghpat :

मामला मंगलवार का है। बागपत के बड़ौत में नगरपालिका के चेयरमैन और बीजेपी नेता अमित राणा ने अपने समर्थकों और हनुमान भक्तों के साथ नेशनल हाईवे 709 पर न केवल हनुमान चालीसा का पाठ किया बल्कि सड़क पर ही घंटे घडिय़ाल के साथ हनुमान आरती भी की।

हाईवे पर जय श्री राम जय हनुमान, हर हर महादेव की जयघोष होने लगी। मामले की सूचना मिलते ही अधिकारियों के हाथ पांव फूल गए और हड़कंप मच गया क्योंकि मामला धार्मिक था। इसलिए पुलिस ने रोका तो नहीं लेकिन नगरपालिका के चेयरमैन और बीजेपी नेता अमित राणा से उन्होंने बात की।

अमित राणा ने अधिकारियों से कहा जब सड़क पर नमाज पढऩे से नहीं रोकी जा सकती तो पूजा क्यों। उन्होंने कहा कि ये लोकतांत्रिक देश है बिना परमिशन भी हम यहां हनुमान चालीसा पढ़ेंगे। दरअसल इस समय कावड़ यात्रा मेला चल रहा है और बागपत में ऐतिहासिक सिद्धपीठ पुरा महादेव मंदिर है जिसमें स्थापित शिवलिंग की स्थापना भगवान परशुराम ने की थी। इस मंदिर में हर वर्ष 25 से 30 लाख कावडिय़ा आते हैं और जलाभिषेक करते हैं। इसलिए अधिकारी इस मामले पर कुछ भी बोलने से कतरा रहे हैं।

बागपत। उत्तर प्रदेश बागपत जनपद में सड़कों में पढ़ी जानें वाली नमाज के बाद को विरोध में हिंदू संगठन और बीजेपी नेता सड़क पर हनुमान चालीसा पढऩे के लिए आगे आ गए हैं। मामला मंगलवार का है। बागपत के बड़ौत में नगरपालिका के चेयरमैन और बीजेपी नेता अमित राणा ने अपने समर्थकों और हनुमान भक्तों के साथ नेशनल हाईवे 709 पर न केवल हनुमान चालीसा का पाठ किया बल्कि सड़क पर ही घंटे घडिय़ाल के साथ हनुमान आरती भी की। हाईवे पर जय श्री राम जय हनुमान, हर हर महादेव की जयघोष होने लगी। मामले की सूचना मिलते ही अधिकारियों के हाथ पांव फूल गए और हड़कंप मच गया क्योंकि मामला धार्मिक था। इसलिए पुलिस ने रोका तो नहीं लेकिन नगरपालिका के चेयरमैन और बीजेपी नेता अमित राणा से उन्होंने बात की। अमित राणा ने अधिकारियों से कहा जब सड़क पर नमाज पढऩे से नहीं रोकी जा सकती तो पूजा क्यों। उन्होंने कहा कि ये लोकतांत्रिक देश है बिना परमिशन भी हम यहां हनुमान चालीसा पढ़ेंगे। दरअसल इस समय कावड़ यात्रा मेला चल रहा है और बागपत में ऐतिहासिक सिद्धपीठ पुरा महादेव मंदिर है जिसमें स्थापित शिवलिंग की स्थापना भगवान परशुराम ने की थी। इस मंदिर में हर वर्ष 25 से 30 लाख कावडिय़ा आते हैं और जलाभिषेक करते हैं। इसलिए अधिकारी इस मामले पर कुछ भी बोलने से कतरा रहे हैं।