1. हिन्दी समाचार
  2. बॉलीवुड
  3. Happy Birthday बाबू भैया: एक ही नजर में दिल दे बैठे थे परेश, स्वरुप से पेड़ की छांव में लिए थे सात फेरे

Happy Birthday बाबू भैया: एक ही नजर में दिल दे बैठे थे परेश, स्वरुप से पेड़ की छांव में लिए थे सात फेरे

एक एक्टर, कॉमेडियन, फिल्म प्रोड्यूसर के साथ-साथ वे राजनेता भी हैं। परेश अहमदाबाद सीट से 2014 से 2019 तक संसद के निचले सदन लोकसभा के सदस्य रह चुके हैं। इसके अलावा परेश की लव लाइफ भी किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं रही है।

By आराधना शर्मा 
Updated Date

मुंबई: परेश रावल 80 और 90 दशक के खतरनाक विलेम माने जाते थे। इसके बाद परेश ने कई कॉमेडी फिल्मों में भी काम किया और यह साबित कर दिया कि वह एक्टिंग की दुनिया के बेताज बादशाह हैं। दरअसल, आज परेश रावल आज अपना 66वां बर्थडे सेलिब्रेट कर रहें हैं। आपको

पढ़ें :- Love In Ukraine: Vipin Kaushik फ़िल्म 'लव इन यूक्रेन' से करेंगे डेब्यू, युद्ब में तबाह हुआ पूरा शहर

जानकर हैरानी होगी कि  फिल्म इंडस्ट्री में अपनी कामयाबी का झंडा गाड़ने वाले परेश रावल बाई चांस फिल्मों में आए थे। परेश बनना चाहते थे इंजीनियर, लेकिन बन गए एक्टर। परेश रावल का जन्म 30 मई 1955 को एक गुजराती परिवार में हुआ था। परेश जितनी तरह की भूमिकाएं पर्दे पर निभाते हैं, उससे कम निजी जिंदगी में नहीं निभाया है।

एक एक्टर, कॉमेडियन, फिल्म प्रोड्यूसर के साथ-साथ वे राजनेता भी हैं। परेश अहमदाबाद सीट से 2014 से 2019 तक संसद के निचले सदन लोकसभा के सदस्य रह चुके हैं। इसके अलावा परेश की लव लाइफ भी किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं रही है।

परेश रावल ने पूर्व मिस इंडिया स्वरुप संपत को अपना जीवन साथी बनाया। इस प्रेम कहानी का किस्सा भी बड़ा ही दिलचस्प है। मीडिया को दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने बताया था कि स्वरुप संपत के फादर इंडियन नेशनल थिएटर के प्रोड्यूसर थे। परेश वहां ड्रामा देखने गए तो उनकी नजर स्वरुप पर पड़ी और ‘मैंने अपने फ्रेंड से कहा कि यही लड़की मेरी वाइफ बनेगी’। इस बात पर परेश इस कदर अड़े कि सचमुच में शादी करके ही माने।

परेश रावल भी थिएटर करते थे। कमाल के एक्टर परेश को परफॉर्म करते देख स्वरुप संपत को उनकी एक्टिंग बहुत पसंद आई। परेश की तारीफ की, बस परेश को और क्या चाहिए था। इसके बाद तो प्रेम कहानी शुरू हो गई।


दोस्ती धीरे-धीरे प्यार में बदली और दोनों ने एक साथ जीवन बिताने का फैसला कर लिया।  हालात कुछ ऐसे बने कि मुंबई के लक्ष्मी नारायण मंदिर में शादी करनी पड़ी। यहां तक कि मंडप भी नहीं था। एक पेड़ के नीचे पंडितों ने मंत्रोच्चार के साथ शादी संपन्न करवा दी और इस तरह अपने दोस्त से किया वादा सच कर दिखाया।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...