1. हिन्दी समाचार
  2. Happy Children’s Day: बाल दिवस के मौके पर अपने साथियों को भेजें ये बधाई संदेश

Happy Children’s Day: बाल दिवस के मौके पर अपने साथियों को भेजें ये बधाई संदेश

Happy Childrens Day Share These Messages

By आस्था सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। हर साल 14 नवंबर को बाल दिवस मनाया जाता है भारत में बाल दिवस देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल की जंयती के दिन मनाया जाता है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर 20 नवंबर को बाल दिवस मनाने की परंपरा है हालांकि चाचा नेहरू जी को बच्चों से बहुत प्यार था और बच्चों से भी उन्हें बहुत प्यार मिलता था। यही वजह है कि पंडित जवाहर लाल नेहरू को बच्चे प्यार से चाचा कह कर बुलाते थे और इसीलिए भारत में नेहरू जी के जन्मदिन को बाल दिवस के रूप में मनाया जाना शुरू हो गया। बता दें कि भारत में 1964 से पहले बाल दिवस 20 नवंबर को मनाया जाता था लेकिन पंडित नेहरू की मौत के बाद बाल दिवस उनके जन्मदिन यानि 14 नवंबर पर मनाया जाने लगा।चलिए इस खासमौके पर अपने साथियों को भेजें ये प्यार भरे बधाई संदेश…

पढ़ें :- हार्दिक और कुणाल पांड्या के पिता का निधन, दिल का दौरा बना मौत की वजह

रोने की वजह न थी
न हंसने का बहाना था
क्यों हो गए हम इतने बड़े
इससे अच्छा तो बचपन का जमाना था
Happy Children’s Day

चाचा जी के हम हैं बच्चे प्यारे
मां-बाप के हैं राज दुलारे
आ गया है चाचा जी का जन्मदिवस
आओ मिलकर मनाएं बाल दिवस
Happy Children’s Day

दुनिया का सबसे सच्चा समय
दुनिया का सबसे अच्छा दिन
दुनिया का सबसे हसीन पल
सिर्फ बचपन में ही मिलता है
Happy Children’s Day

मैडम आज ना डांटना हमको
आज हम खेलेंगे गाएंगे
साल भर हमने किया इंतज़ार
आज हम बाल दिवस मनाएंगे
Happy Children’s Day

पढ़ें :- Movie leaked: सैफ और काजोल को लगा तगड़ा झटका, तांडव और त्रिभंगा दोनों HD में हुई लीक

हमारे बचपन का वह दिन
मैं बहुत याद करता हूं
बचपन यूं ही गुजर जाता है
जब तक तक हमको उसका अहसास होता हैतब तक वह अतीत बन जाता हैHappy Children’s Dayखबर ना होती कुछ सुबह कीना कोई शाम का ठिकाना थाथक हार के आना स्कूल सेपर खेलने तो जरुर जाना थाHappy Children’s Dayएक बचपन का जमाना थाहोता जब खुशियों का जमाना थाचाहत होती चांद को पाने की थीपर दिल तो तितली का दीवाना थाHappy Children’s Dayबचपन है ऐसा खजानाआता है न जो दोबारामुश्किल है इसको भुलानावो खेलना, कूदना और खानामौज मस्ती में बलखानाHappy Children’s Dayमां की कहानी थी, परियों का फसाना थाबारिश में कागज़ की नाव थीबचपन का वो हर मौसम सुहाना थाHappy Children’s Dayहम हैं इस भारत के बच्चेहम नहीं हैं अक्ल के कच्चेहम आंसू नहीं बहाते हैंक्योंकि हम हैं सीधे सरल और सच्चेHappy Children’s Dayबचपन में सबसे अधिक पूछा गया एक सवाल:बड़े होकर क्या बनना है?अब जाकर जवाब मिला कि फिर से बच्चा बनना है.Happy Children’s Day

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...