Happy Mother’s Day 2019: अमेरिका की इस महिला ने की थी मदर्स डे की शुरुआत

mothers day 2019
HAPPY MOTHER'S DAY 2019: अमेरिका की इस महिला ने की थी मदर्स डे की शुरुआत, 8 मई, 1914 को हुआ था एलान

लखनऊ। Mother’s Day 2019: हर साल मई के दूसरे रविवार को मनाए जाने वाले मदर्स डे के दिन सभी बच्चे अपनी-अपनी माओं के लिए प्यार का इज़हार कर इस दिन को सेलेब्रेट करते हैं। इस खास मौके पर कुछ लोग अपनी मां के साथ दिन गुजारते हैं तो कुछ लोग उनके साथ घूमने जाते हैं। आज का इस दिन सभी लोग अपनी मां के बलिदानों को याद करके उनका सम्मान करते हैं।

Happy Mothers Day 2019 This American Woman Had Done The Beginning Of Mothers Day May 8 1914 Annaounced :

मदर्स डे की परंपरा की शुरुआत अमेरिका की ऐना एम.जारविस ने किया था। ऐना का जन्म अमेरिका के वेस्ट वर्जिनिया में हुआ था। उनका मां अन्ना रीस जारविस 2 दशकों तक एक चर्च में संडे स्कूल टीचर रहीं। एक दिन की बात है। उनकी मां संडे स्कूल सेशन के दौरान बाइबिल में मां पर एक पाठ के बारे में बता रही थीं। उस समय जारविस 12 साल की थीं। पाठ के दौरान उनकी मां ने एक इच्छा का इजहार किया। उन्होंने अपनी मां को कहते सुना, एक दिन आएगा जब कई मां और मातृत्व को मनाने के लिए एक दिन समर्पित करेगा।

उस समय तक सिर्फ पुरुषों को समर्पित दिन होते थे जिनको मनाया जाता था। महिलाओं के लिए कोई दिन नहीं होता था। जब ऐना की मां का निधन हो गया तो उसके दो सालों बाद, ऐना और उनकी दोस्तों ने एक अभियान चलाया। इस दौरान ऐना ने देखा कि आमतौर पर बच्चे अपनी मां के योगदान को भुला देते हैं। वह चाहती थीं कि जब मां जिंदा हो तो बच्चे उनका सम्मान करें और उनके योगदानों की सराहना करें।

जिसके बाद उन्होंने मदर्स डे की राष्ट्रीय छुट्टी के लिए लोगों का समर्थन हासिल किया। उनको उम्मीद थी कि जब इस दिन को मदर्स डे के तौर पर मनाया जाएगा तो मां और पूरे परिवार का आपस के संबंध मजबूत होंगे। ड्जिरे -धीरे इस अभियान को समर्थन मिलता गया और फिर 8 मई, 1914 को संयुक्त राज्य अमेरिका की संसद ने मई के दूसरे रविवार को मदर्स डे घोषित किया। आज के दिन अमेरिका में तत्कालीन राष्ट्रपति वूड्रो विल्सन ने इस दिन को राष्ट्रीय अवकाश भी घोषित कर दिया।

मदर्स डे के इस दिन के घोषित होने के बाद लोगों ने इस दिन के नाम पर व्यापार करना शुरू कर दिया। ऐना ने जब ये देखा तो वो उन लोगों के खिलाफ मुहिम चलाना शुरू किया। उनका मानना था कि मां किसी महंगे तोहफे की तलबगार नहीं हैं, मां के लिए आपका दिया गया वक़्त और उनकी भावनाओं को समझना ही सबसे महत्वपूर्ण होता है। उनके लिए सबसे बड़ा तोहफा आपके प्रति जो प्यार है वही काफी है।

लखनऊ। Mother's Day 2019: हर साल मई के दूसरे रविवार को मनाए जाने वाले मदर्स डे के दिन सभी बच्चे अपनी-अपनी माओं के लिए प्यार का इज़हार कर इस दिन को सेलेब्रेट करते हैं। इस खास मौके पर कुछ लोग अपनी मां के साथ दिन गुजारते हैं तो कुछ लोग उनके साथ घूमने जाते हैं। आज का इस दिन सभी लोग अपनी मां के बलिदानों को याद करके उनका सम्मान करते हैं। मदर्स डे की परंपरा की शुरुआत अमेरिका की ऐना एम.जारविस ने किया था। ऐना का जन्म अमेरिका के वेस्ट वर्जिनिया में हुआ था। उनका मां अन्ना रीस जारविस 2 दशकों तक एक चर्च में संडे स्कूल टीचर रहीं। एक दिन की बात है। उनकी मां संडे स्कूल सेशन के दौरान बाइबिल में मां पर एक पाठ के बारे में बता रही थीं। उस समय जारविस 12 साल की थीं। पाठ के दौरान उनकी मां ने एक इच्छा का इजहार किया। उन्होंने अपनी मां को कहते सुना, एक दिन आएगा जब कई मां और मातृत्व को मनाने के लिए एक दिन समर्पित करेगा। उस समय तक सिर्फ पुरुषों को समर्पित दिन होते थे जिनको मनाया जाता था। महिलाओं के लिए कोई दिन नहीं होता था। जब ऐना की मां का निधन हो गया तो उसके दो सालों बाद, ऐना और उनकी दोस्तों ने एक अभियान चलाया। इस दौरान ऐना ने देखा कि आमतौर पर बच्चे अपनी मां के योगदान को भुला देते हैं। वह चाहती थीं कि जब मां जिंदा हो तो बच्चे उनका सम्मान करें और उनके योगदानों की सराहना करें। जिसके बाद उन्होंने मदर्स डे की राष्ट्रीय छुट्टी के लिए लोगों का समर्थन हासिल किया। उनको उम्मीद थी कि जब इस दिन को मदर्स डे के तौर पर मनाया जाएगा तो मां और पूरे परिवार का आपस के संबंध मजबूत होंगे। ड्जिरे -धीरे इस अभियान को समर्थन मिलता गया और फिर 8 मई, 1914 को संयुक्त राज्य अमेरिका की संसद ने मई के दूसरे रविवार को मदर्स डे घोषित किया। आज के दिन अमेरिका में तत्कालीन राष्ट्रपति वूड्रो विल्सन ने इस दिन को राष्ट्रीय अवकाश भी घोषित कर दिया। मदर्स डे के इस दिन के घोषित होने के बाद लोगों ने इस दिन के नाम पर व्यापार करना शुरू कर दिया। ऐना ने जब ये देखा तो वो उन लोगों के खिलाफ मुहिम चलाना शुरू किया। उनका मानना था कि मां किसी महंगे तोहफे की तलबगार नहीं हैं, मां के लिए आपका दिया गया वक़्त और उनकी भावनाओं को समझना ही सबसे महत्वपूर्ण होता है। उनके लिए सबसे बड़ा तोहफा आपके प्रति जो प्यार है वही काफी है।