हरभजन सिंह भावुक होकर बोले- टीम सिलेक्टर्स को लगता है कि मैं बूढ़ा हो गया हूं

harbhajan singh
हरभजन सिंह बोले- अगर ऐसा ही बना रहा कोरोना का खतरा तो रद्द कर देना चाहएि IPL

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम में बतौर स्प्रि​नर एक क्षत्र राज करने वाले हरभजन सिंह टीम इंडिया से पिछले चार साल से कोई इंटरनेशनल मैच नहीं खेले है। भज्जी को अभी भी टीम इंडिया में वापसी की उम्मीद है। भज्जी 2007 टी20 वर्ल्ड कप और 2011 वर्ल्ड कप विजेता टीम इंडिया का हिस्सा रह चुके हैं। भज्जी मानते हैं कि वो टी20 इंटरनेशनल में टीम इंडिया के लिए वापसी कर सकते हैं। भज्जी का मानना है कि वो टी20 वर्ल्ड कप खेलने के लिए फिट और तैयार हैं।

Harbhajan Singh Said Emotionally Team Selectors Feel That I Am Old :

ईएसपीएन क्रिकइंफो पर भज्जी ने कहा, ‘मैं तैयार हूं, मैं आईपीएल में अच्छी गेंदबाजी कर सकता हूं, जो कि गेंदबाजों के लिए काफी मुश्किल टूर्नामेंट होता है क्योंकि मैदान छोटे होते हैं और इस टूर्नामेंट में दुनिया के टॉप खिलाड़ी खेलते हैं।’ 2016 एशिया कप में भज्जी आखिरी बार टीम इंडिया के लिए टी20 इंटरनेशनल फॉर्मैट में खेले थे। आईपीएल में हालांकि भज्जी का प्रदर्शन इसके बाद से अच्छा रहा है। आईपीएल में वो मुंबई इंडियंस के लिए सालों खेलने के बाद पिछले दो साल से चेन्नई सुपर किंग्स की ओर से खेल रहे हैं।

भज्जी आईपीएल के सबसे सफल गेंदबाजों में शुमार हैं। उनके खाते में 150 आईपीएल विकेट दर्ज हैं, जबकि उन्होंने महज 7.05 के इकॉनमी रेट से रन खर्चे हैं। भज्जी ने कहा, ‘सिलेक्टर्स मेरी ओर नहीं देखते हैं क्योंकि उनको लगता है कि मैं बहुत बूढ़ा हो गया हूं। इसके अलावा मैं कोई डोमेस्टिक क्रिकेट भी नहीं खेलता हूं। पिछले चार-पांच सालों से उन्होंने मेरी ओर देखा नहीं जबकि आईपीएल में मेरा प्रदर्शन अच्छा रहा है। मैंने विकेट्स लिए हैं और मेरे रिकॉर्ड्स मेरे पक्ष में हैं।’

उन्होंने आगे कहा, ‘आईपीएल में बल्लेबाजों के खिलाफ गेंदबाजी करना मुश्किल होता है और अगर आप आईपीएल में अच्छी गेंदबाजी कर लेते हैं तो आप टी20 इंटरनेशनल क्रिकेट में भी अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं। मैंने आईपीएल में अच्छी गेंदबाजी की है और विकेट भी निकाले हैं।’ भज्जी का मानना है कि आईपीएल टी20 क्रिकेट में सबसे मुश्किल टूर्नामेंट है। उन्होंने कहा, ‘इंटरनेशनल क्रिकेट में सभी टीमों के पास सारे ही क्वॉलिटी खिलाड़ी नहीं होते जैसा कि आईपीएल में होता है, जहां सभी टीमों के पास टॉप-6 खिलाड़ी शानदार होते हैं, जो अच्छी बात है। हां, ऑस्ट्रेलिया, भारत और इंग्लैंड के पास अच्छा बैटिंग लाइन-अप है। लेकिन अगर मैं जॉनी बेयरेस्टो और डेविड वॉर्नर को आईपीएल में आउट कर सकता हूं, तो आपको नहीं लगता कि इंटरनेशनल क्रिकेट में भी मैं उनको आउट कर सकता हूं? लेकिन यह सब मेरे हाथ में नहीं है। मौजूदा सेट-अप में कोई आपके पास आकर बात नहीं करता है।’

आईपीएल 2019 में भज्जी ने किया था शानदार प्रदर्शन

आईपीएल 2019 में उन्होंने 11 मैचों में 16 विकेट लिए थे और 7.09 के इकॉनमी रेट से रन खर्चे थे। टेस्ट क्रिकेट में एक्टिव भारतीय क्रिकेटरों की बात करें तो सबसे ज्यादा विकेट उनके नाम ही दर्ज हैं। भज्जी ने 103 टेस्ट मैचों में 417 विकेट लिए हैं। 2001 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उन्होंने टेस्ट मैच में हैट्रिक ली थी और भारत की ओर से टेस्ट क्रिकेट में वो किसी भी गेंदबाज की पहली हैट्रिक थी।

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम में बतौर स्प्रि​नर एक क्षत्र राज करने वाले हरभजन सिंह टीम इंडिया से पिछले चार साल से कोई इंटरनेशनल मैच नहीं खेले है। भज्जी को अभी भी टीम इंडिया में वापसी की उम्मीद है। भज्जी 2007 टी20 वर्ल्ड कप और 2011 वर्ल्ड कप विजेता टीम इंडिया का हिस्सा रह चुके हैं। भज्जी मानते हैं कि वो टी20 इंटरनेशनल में टीम इंडिया के लिए वापसी कर सकते हैं। भज्जी का मानना है कि वो टी20 वर्ल्ड कप खेलने के लिए फिट और तैयार हैं। ईएसपीएन क्रिकइंफो पर भज्जी ने कहा, 'मैं तैयार हूं, मैं आईपीएल में अच्छी गेंदबाजी कर सकता हूं, जो कि गेंदबाजों के लिए काफी मुश्किल टूर्नामेंट होता है क्योंकि मैदान छोटे होते हैं और इस टूर्नामेंट में दुनिया के टॉप खिलाड़ी खेलते हैं।' 2016 एशिया कप में भज्जी आखिरी बार टीम इंडिया के लिए टी20 इंटरनेशनल फॉर्मैट में खेले थे। आईपीएल में हालांकि भज्जी का प्रदर्शन इसके बाद से अच्छा रहा है। आईपीएल में वो मुंबई इंडियंस के लिए सालों खेलने के बाद पिछले दो साल से चेन्नई सुपर किंग्स की ओर से खेल रहे हैं। भज्जी आईपीएल के सबसे सफल गेंदबाजों में शुमार हैं। उनके खाते में 150 आईपीएल विकेट दर्ज हैं, जबकि उन्होंने महज 7.05 के इकॉनमी रेट से रन खर्चे हैं। भज्जी ने कहा, 'सिलेक्टर्स मेरी ओर नहीं देखते हैं क्योंकि उनको लगता है कि मैं बहुत बूढ़ा हो गया हूं। इसके अलावा मैं कोई डोमेस्टिक क्रिकेट भी नहीं खेलता हूं। पिछले चार-पांच सालों से उन्होंने मेरी ओर देखा नहीं जबकि आईपीएल में मेरा प्रदर्शन अच्छा रहा है। मैंने विकेट्स लिए हैं और मेरे रिकॉर्ड्स मेरे पक्ष में हैं।' उन्होंने आगे कहा, 'आईपीएल में बल्लेबाजों के खिलाफ गेंदबाजी करना मुश्किल होता है और अगर आप आईपीएल में अच्छी गेंदबाजी कर लेते हैं तो आप टी20 इंटरनेशनल क्रिकेट में भी अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं। मैंने आईपीएल में अच्छी गेंदबाजी की है और विकेट भी निकाले हैं।' भज्जी का मानना है कि आईपीएल टी20 क्रिकेट में सबसे मुश्किल टूर्नामेंट है। उन्होंने कहा, 'इंटरनेशनल क्रिकेट में सभी टीमों के पास सारे ही क्वॉलिटी खिलाड़ी नहीं होते जैसा कि आईपीएल में होता है, जहां सभी टीमों के पास टॉप-6 खिलाड़ी शानदार होते हैं, जो अच्छी बात है। हां, ऑस्ट्रेलिया, भारत और इंग्लैंड के पास अच्छा बैटिंग लाइन-अप है। लेकिन अगर मैं जॉनी बेयरेस्टो और डेविड वॉर्नर को आईपीएल में आउट कर सकता हूं, तो आपको नहीं लगता कि इंटरनेशनल क्रिकेट में भी मैं उनको आउट कर सकता हूं? लेकिन यह सब मेरे हाथ में नहीं है। मौजूदा सेट-अप में कोई आपके पास आकर बात नहीं करता है।' आईपीएल 2019 में भज्जी ने किया था शानदार प्रदर्शन आईपीएल 2019 में उन्होंने 11 मैचों में 16 विकेट लिए थे और 7.09 के इकॉनमी रेट से रन खर्चे थे। टेस्ट क्रिकेट में एक्टिव भारतीय क्रिकेटरों की बात करें तो सबसे ज्यादा विकेट उनके नाम ही दर्ज हैं। भज्जी ने 103 टेस्ट मैचों में 417 विकेट लिए हैं। 2001 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उन्होंने टेस्ट मैच में हैट्रिक ली थी और भारत की ओर से टेस्ट क्रिकेट में वो किसी भी गेंदबाज की पहली हैट्रिक थी।