थप्पड़कांड के बाद हार्दिक पटेल की जनसभा में जमकर चलीं कुर्सियां

hardik
थप्पड़कांड के बाद हार्दिक पटेल की जनसभा में जमकर चलीं कुर्सियां

नई दिल्ली। गुजरात के अहमदाबाद में कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल की एक जनसभा में समर्थकों ने जमकर हमंगा किया। हंगामे के बीच जनसभा में कुर्सियां उछालीं और तोड़ी गईं सभा में लोगों ने एक दूसरे पर कुर्सियां तक फेंकी। इस चुनावी रैली में पाटीदार अनामत आंदोलन समिति के एक धड़े के सदस्यों ने यहां निकोल इलाके में कथित तौर पर हंगामा किया। हार्दिक ने पत्र लिखकर सुरक्षा मांगी थी, इसलिए पुलिस भी तैनात थी लेकिन हंगामा हो गया।

Hardik Patel Congress Rally Scuffle Lok Sabha Election :

दरअसल, जनसभा में जनता को संबोधित किया जा रहा था। हार्दिक को सुनने पहुंचे कुछ लोग हाथ में कांग्रेस का झंडा थामे थे और कुछ लोग प्लास्टिक वाली कुर्सियां। ये कुर्सियां आपस में लोगों पर पटकी जा रही थीं। दूसरी तरफ हार्दिक लोगों से शांत रहने की अपील कर रहे थे। हार्दिक और जनसभा में हंगामे के बीच फिर से हमले की जिम्मेदार बीजेपी बताई जा  रही है। हालांकि, यह विवाद किन कारणों से हुआ इस बात का अभी तक पता नहीं लगाया जा सका है।

यह बीजेपी का काम है। वे नहीं चाहते कि मैं प्रचार करूं- हार्दिक

उसने कहा, ‘‘स्थल पर मौजूद हार्दिक के सदस्यों के साथ उनकी झड़प हुई और उन लोगों को रैली से बाहर ले जाया गया। मौके पर मौजूद पुलिस ने हस्तक्षेप किया और उन लोगों को यहां से ले गयी।’’ हार्दिक ने कहा, ‘‘यह बीजेपी का काम है। वे नहीं चाहते कि मैं प्रचार करूं. कल उन्होंने एक आदमी भेजा जिसने मुझे थप्पड़ मारा और आज उन्होंने रैली में व्यवधान डालने के लिये गुंडे भेजे।’’  हालांकि बीजेपी नेता धनसुख भंडेरी ने हार्दिक के आरोपों को नकार दिया और कहा कि यह कांग्रेस की आंतरिक खींचतान का परिणाम है।

नई दिल्ली। गुजरात के अहमदाबाद में कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल की एक जनसभा में समर्थकों ने जमकर हमंगा किया। हंगामे के बीच जनसभा में कुर्सियां उछालीं और तोड़ी गईं सभा में लोगों ने एक दूसरे पर कुर्सियां तक फेंकी। इस चुनावी रैली में पाटीदार अनामत आंदोलन समिति के एक धड़े के सदस्यों ने यहां निकोल इलाके में कथित तौर पर हंगामा किया। हार्दिक ने पत्र लिखकर सुरक्षा मांगी थी, इसलिए पुलिस भी तैनात थी लेकिन हंगामा हो गया। दरअसल, जनसभा में जनता को संबोधित किया जा रहा था। हार्दिक को सुनने पहुंचे कुछ लोग हाथ में कांग्रेस का झंडा थामे थे और कुछ लोग प्लास्टिक वाली कुर्सियां। ये कुर्सियां आपस में लोगों पर पटकी जा रही थीं। दूसरी तरफ हार्दिक लोगों से शांत रहने की अपील कर रहे थे। हार्दिक और जनसभा में हंगामे के बीच फिर से हमले की जिम्मेदार बीजेपी बताई जा  रही है। हालांकि, यह विवाद किन कारणों से हुआ इस बात का अभी तक पता नहीं लगाया जा सका है। यह बीजेपी का काम है। वे नहीं चाहते कि मैं प्रचार करूं- हार्दिक उसने कहा, ‘‘स्थल पर मौजूद हार्दिक के सदस्यों के साथ उनकी झड़प हुई और उन लोगों को रैली से बाहर ले जाया गया। मौके पर मौजूद पुलिस ने हस्तक्षेप किया और उन लोगों को यहां से ले गयी।’’ हार्दिक ने कहा, ‘‘यह बीजेपी का काम है। वे नहीं चाहते कि मैं प्रचार करूं. कल उन्होंने एक आदमी भेजा जिसने मुझे थप्पड़ मारा और आज उन्होंने रैली में व्यवधान डालने के लिये गुंडे भेजे।’’  हालांकि बीजेपी नेता धनसुख भंडेरी ने हार्दिक के आरोपों को नकार दिया और कहा कि यह कांग्रेस की आंतरिक खींचतान का परिणाम है।